गहलोत के बयान को आलाकमान ने माना गंभीर, 29 को जयपुर आएगें केसी वेणुगोपाल।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा पायलट पर लगाए गए आरोपों को लेकर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के साथ ही सोनिया गांधी,राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने मामले को गंभीरता से लिया है। इस विवादित मामले को सुलझाने के लिए कुछ कठोर निर्णय भी लिए जा सकते हैं । पार्टी हाईकमान ने आगामी 29 नवंबर को राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रियों की तैयारियों की समीक्षा बैठक करने के लिए संगठन महामंत्री केसी वेणुगोपाल को जयपुर भेजने का निर्णय किया है। वैसे कहने को तो कैसी वेणुगोपाल राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा की राज्य प्रबंध कमेटी के सदस्यों के साथ बैठक करने के लिए आ रहे हैं। लेकिन साथ ही वे पार्टी हाईकमान का संदेश लेकर भी जयपुर पहुंचेंगे सीएम गहलोत को यह स्पष्ट निर्देश दिए जाएंगे कि वे अब आरोप-प्रत्यारोप लगाने के सिलसिले को बंद करें। यह भी संभव है कि उन्हें यह स्पष्ट किया जाए कि आने वाले समय में किसके नेतृत्व में वर्ष 2023 के कांग्रेस चुनाव कराएगी। फिलहाल सीएम के मसले को लेकर क्या कुछ होना है अभी स्पष्ट नहीं हो पाएगा। लेकिन यह बात सही है कि पार्टी के नेताओं को यह तो संकेत दिए जाएंगे की पार्टी के किसी भी नेता को मौजूदा हालात पैदा करने की मंजूरी नहीं दी जाएगी। पार्टी सीधे तौर पर कार्रवाई करेगी। जिससे कि भविष्य में सभी नेता अनुशासन में कायम रह सके।कांग्रेस का पहला राज्य जहां पर पार्टी सत्ता में हो और राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा से पहले यह विवाद हाईकमान बर्दाश्त नहीं करेगा। इस मामले को कैसे निपटा जाए और राज्य में फिर से अच्छा वातावरण कैसे तैयार हो इस पर निर्णय भी किया जा सकता है। स्थिति को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि क्या केसी वेणुगोपाल विधायकों की राय जान सकते हैं। लेकिन फ़िलहाल 29 नवंबर को राज्य समन्वय समिति के 33 नेताओं से तैयारियों के बारे में समीक्षा होगी और किस प्रकार से भारत जोड़ो यात्रा को भव्य और सफल कैसे बनाया जाए इस पर विचार-विमर्श कर निर्णय किए जाएंगे। राजस्थान में भारत जोड़ो यात्रा 4 दिसंबर को प्रवेश करेगी प्रवेश के दौरान भव्य स्वागत हो और जिसमें शामिल होने के लिए भारी तादाद में कांग्रेस जन और अन्य लोगों को शामिल करने की रणनीति पर भी विचार किया जाएगा। इसके बाद झालावाड़ और कोटा में भारत जोड़ो यात्रा को सफल बनाने के लिए क्या कुछ तैयारियां की गई है और इसमें कोई विवाद या अन्य किसी तरह  समस्या का सामना नहीं करना पड़े। वहां के नेताओं के लिए इस पर संदेश भी देने का काम किया जाएगा । राहुल गांधी की झालावाड़ और कोटा में जनसभाएं कराए जाने पर भी विचार किया जाएगा। जनसभाओं में अच्छा जनसैलाब लाया जाए इस पर भी विचार-विमर्श कर निर्णय किया जाएगा। गुर्जर-मीणा बहुल इलाके में भारत जोड़ो यात्रा 576 किलोमीटर का सफर तय करेगी इसके लिए भी रणनीति तैयार की जाएगी और यह कहा जा रहा है कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का सीधा प्रसारण एलईडी के माध्यम से कराए जाने की योजना भी बनाई जा रही है। जिससे कि लोगों को यात्रा से जोड़कर पार्टी को मजबूत करने का संदेश दिया जा सके। अब चाहे कुछ भी हो लेकिन सीएम गहलोत द्वारा गुरुवार  को सचिन पायलट के प्रति आरोप-प्रत्यारोप लगाकर माहौल खराब करने गलत प्रवृत्ति को रोकने के लिए भी कुछ कठोर निर्णय भी हो सकते हैं। केसी वेणुगोपाल किस प्रकार का संदेश हाईकमान का लेकर आते हैं और यहां पर उसका क्रियान्वयन कैसे संभव होगा यह तो 29 नवंबर को ही पता पढ़ पाएगा। लेकिन 29 नवंबर को केसी वेणुगोपाल के आने की सूचना के बाद प्रदेश की राजनीति में हड़कंप मचा हुआ है और विभिन्न प्रकार के कयास लगाना शुरु हो गए हैं। सीएम गहलोत की कोशिश रहेगी कि वे किसी तरह से उन्हें मैनेज करें और यह बताने का प्रयास करें कि सचिन पायलट के साथ समर्थन नहीं है और कुछ किया गया तो पार्टी के लिए ठीक नहीं रहेगा। यह भी बात सही है कि पार्टी भी सीएम गहलोत को यह स्पष्ट संदेश देगी कि उनकी मनमर्जी नहीं चलने दी जाएगी। पार्टी जो भी निर्णय करेगी उसे सभी को मानना ही पड़ेगा। फिलहाल यह माना जा रहा है कि भारत जोड़ो यात्रा उसे पहले गुजरात चुनाव हो जाने तक इस मामले को डाला जा सकता है। अब चाहे कुछ भी कहो लेकिन गहलोत के बयान निश्चित तौर पर हाईकमान ने गंभीर माना है और अब क्या कुछ होगा आने वाले समय के लिए इंतजार ही करना पड़ेगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack