वरिष्ठ तीर्थ यात्रा योजना की 5वीं ट्रेन हुई रवाना, गंगासागर भ्रमण कर सकेंगे वरिष्ठजन।

जोधपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
प्रदेश की लोकप्रिय वरिष्ठ नागरिक तीर्थ यात्रा योजना के अन्तर्गत 5वीं ट्रेन  जोधपुर से गंगासागर के लिए रवाना हुई। 1 हजार से अधिक यात्री इस ट्रेन के जरिए निशुल्क गंगासागर तीर्थस्थल का भ्रमण करेंगे। देवस्थान मंत्री शकुंतला रावत ने सभी तीर्थ यात्रियों की सुखद यात्रा के लिए मंगलकामना की। उन्होंने कहा कि देवस्थान विभाग द्वारा बुजुर्ग यात्रियों की आरामदायक यात्रा के लिए सभी इंतजाम किए गए हैं। पूर्व में गई 4 ट्रेनों से आए यात्रियों से भी फीडबैक लेकर भी व्यवस्थाओं को बेहतर किया जा रहा है। रावत ने बताया कि पांचवी ट्रेन में 577 यात्री जोधपुर से एवं 401 यात्री जयपुर से सवार हुए। इस तरह कुल 978 यात्री सहित, ट्रेन प्रभारी, अनुरक्षक और डॉक्टर की टीम सहित 1012 यात्री ट्रेन में उपस्थित रहेंगे। उन्होंने कहा कि यात्रा में लॉटरी की मुख्य सूची में चयनित यात्रियों को ही आमंत्रित किया गया था। उनमें से अनुपस्थित रहने वाले यात्रियों के स्थान पर वेटिंग वाले यात्रियों को मौका दिया गया। रावत ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की बजट घोषणाओं में से एक वरिष्ठ तीर्थजन यात्रा योजना-2022 के तहत प्रदेश के 20 हजार वरिष्ठ नागरिकों को देवस्थलों का भ्रमण करवाया जा रहा है, इनमें से 18 हजार यात्रियों को ट्रेन से और 2000 यात्रियों को हवाईजहाज से यात्रा करवाई जा रही है। देवस्थान मंत्री ने कहा कि पिछले 9 वर्षों से संचालित वरिष्ठ तीर्थजन यात्रा योजना में अब तक 92 हजार लोगों को राज्य सरकार निशुल्क यात्रा करवा चुकी है। उन्होंने कहा कि समाज के ऐसे लोग जो ट्रेन या हवाईजहाज से तीर्थस्थलों की यात्रा करने में सक्षम नहीं हैं, उनके लिए राज्य सरकार यह अनूठी योजना लाई है। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बजट घोषणा में इस योजना के लिए 13 करोड़ से बजट बढ़ाकर 30 करोड़ और यात्रियों की संख्या को भी 10 हजार से बढ़ाकर 20 हजार किया गया है। उन्होंने बताया कि तीर्थयात्रा में रामेश्वरम-मदुरई, जगन्नाथपुरी, तिरूपति, द्वारकापुरी-सोमनाथ, वैष्णोदेवी-अमृतसर, प्रयागराज-वाराणसी, मथुरा-वृंदावन, सम्मेदशिखर-पावापुरी, उज्जैन-ओंकारेश्वर, गंगासागर कोलकाता, कामाख्या गुवाहाटी, हरिद्वार-ऋषिकेश, बिहार शरीफ एवं वेलनकानी चर्च तमिलनाडु आदि स्थानों की यात्रा करवाई जाएगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack