राजस्थानी कलाकारों ने लाइव डेमो कर केनवास पर उकेरा रंगों को।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
डेल्फिक काउंसिल ऑफ राजस्थान ने जवाहर कला केंद्र (जेकेके) में कला शिविर में ’म्हारो राजस्थान’ का आयोजन किया तथा प्रदर्शनी में स्टॉल का उद्घाटन किया। कार्यक्रम में जर्मन आर्ट स्कूल के विद्यार्थी राजस्थानी कलाकारों से रूबरू हुए एवं राजस्थानी कला एवं संस्कृति को समझा। उन्होंने पेटिंग्स की विविध कलाओं के कलाकारों से जर्मन कला को साझा किया। इस अवसर पर डेल्फिक काउंसिल ऑफ राजस्थान की अध्यक्ष श्रेया गुहा ने मंचासीन अतिथियों एवं जर्मनी से आये डेलीगेट्स का स्वागत किया। 
उन्होंने कहा कि राजस्थान विश्व में पहला प्रांत है जहां क्षेत्रीय काउंसिल का गठन कर पंजीयन किया गया । कोविड के दौरान ऑनलाइन इंवेट किए और अब ऑफलाइन इंवेट के माध्यम से ड्रामा, डांस, थिएटर, आर्ट को प्रमोट कर रहे हैं। युवाओं को प्रोत्साहित कर रहे हैं। कलाकारों के लिए खेल का आयोजन किया जाएगा एवं उन्हें वैश्विक मंच प्रदान किया जाएगा। अंतर्राष्ट्रीय डेल्फिक काउंसिल के महासचिव रमेश प्रसन्ना ने कहा कि कल्चर वेल्यू को क्षेत्रीय स्तर पर शुरू करने के उद्देश्य से डेल्फिक काउंसिल ऑफ राजस्थान की शुरुआत की गई है। गॉड अपोलो की थीम व हारमनी की तर्ज पर डेल्फिक काउंसिल की शुरुआत अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर की गई है। उन्होंने कहा कि आपसी भाईचारा, संस्कृति व परंपराओं को कायम रखना तथा विश्व में प्रसार करना इसका उद्देश्य है। डेल्फिक काउंसिल ऑफ जम्मू एंड कश्मीर के अध्यक्ष अशोक सिंह ने कहा कि डेल्फिक काउंसिल राजस्थान श्रेया गुहा के निर्देशन में बहुत अच्छा कार्य कर रही है। वैश्विक स्तर पर राजस्थान के कार्यों की चर्चा है। जर्मन आर्ट स्कूल की इन्स लेक्सचुस ने कहा कि यहां आमंत्रित करना मेरे लिए सौभाग्य की बात है। मुझे युवा लोगों से मिलना, विभिन्न संस्कृति को समझना अच्छा लगता है। कार्यक्रमों की श्रृंखला का आयोजन कर राजस्थान ने एक प्रेरणा दी है। ऐसे प्लेटफॉर्म पर जर्मन कलाकारों को अपनी कला को आदान-प्रदान करने एवं सीखने का एक बेहतर अवसर मिलेगा। कार्यक्रम में शुभांकर विश्वास ने लाइव डेमो दिया। उन्होंने राजस्थान की विरासत, रॉयल्टी व दृश्यात्मक सुंदरता को लाइव प्रस्तुति कर दिखाया। डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने अपनी पेंटिंग में राजस्थान के हेरिटेज कल्चर व रंगों के सभी पक्षों को टैक्सचर एवं स्पेस डिविजन के साथ सृजित किया। कलाकार महेश कुमार कुमावत ने कार्तिक मास में पुष्कर, सेत कुमार ने रंगीलो राजस्थान, संजय कुमार सेठी ने मांडणा द्वारा गणपति का चित्रण, वीरेंद्र बन्नू ने राजस्थानी नायिका के सौंदर्य का चित्रण, देवव्रत दास ने समसामयिक स्थिति के विषय पर चित्रण किया। आर्ट कैंप में सुमित सेन, अमित काला, देबब्रत दास, संत कुमार, संजय कुमार सेठी, देविका शेखावत, तरन्नुम आरा द्वारा भी अपनी कलाकृतियों को प्रदर्शित किया गया। इस मौके पर राजस्थान डेल्फिक काउंसिल की कोषाध्यक्ष क्षिप्रा शर्मा ने मंच का संचालन किया। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में कला प्रेमी उपस्थित थे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack