मंत्री रामलाल ने उदयपुर में बीस सूत्री कार्यक्रम एवं फ्लैगशिप योजनाओं की ली समीक्षा बैठक।

उदयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
राजस्व मंत्री एवं उदयपुर जिला प्रभारी मंत्री रामलाल जाट ने उदयपुर में बीस सूत्रीय कार्यक्रम एवं फ्लेगशिप योजनाओं की समीक्षा बैठक ली और अधिकारियों को समस्त योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार कर अधिकाधिक क्रियान्विति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना अंतर्गत निजी चिकित्सालयों द्वारा मनमानी की शिकायतों को गंभीरता से लिया एवं चिकित्सा विभाग को नियमानुसार जांच करने के निर्देश दिए। जाट ने अस्पतालों में चिरंजीवी मित्रों के माध्यम से लाभार्थियों को जागरूक करने हेतु भी कहा। उन्होंने कहा कि निजी चिकित्सालयों में चिरंजीवी मित्रों द्वारा पात्रा व्यक्तियों को उस अस्पताल में उपलब्ध सभी पैकेज की जानकारी दी जानी चाहिए और साथ ही कोई समस्या होने पर पात्रा मरीज़ की पूरी मदद की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि योजना के तहत पात्रा व्यक्ति को लाभ दिलवाना हम सभी का कर्तव्य है और इसमें कोई कोताही नहीं बरती जानी चाहिए। 
उन्होंने जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों को चिरंजीवी योजना में पंजीयन से वंचित लोगों को शीघ्र पंजीयन करवाने हेतु प्रेरित करने के लिए कहा। बैठक में जिला कलेक्टर ताराचंद मीणा, जिला परिषद् सीईओ मयंक मनीष, एडीएम ओ पी बुनकर, राज्य स्तरीय बीस सूत्रीय कार्यक्रम समिति के सदस्य लक्ष्मीनारायण पंड्या, जिला स्तरीय समिति के सदस्य एवं जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे। मंत्री ने बैठक में सभी को दीपावली की शुभकामना दी।जिला प्रभारी मंत्री रामलाल जाट और कलेक्टर ताराचंद मीणा ने बैठक में कन्यादान योजना की समीक्षा करते हुए कम आवेदन प्राप्त होने पर चिंता जाहिर की और कहा कि अधिकाधिक पात्रा व्यक्तियों से आवेदन लें जिससे कि कन्याओं के विवाह पर पात्रा लोगों को अनुदान मिल सके। इसके अलावा मंत्री जाट ने सिलिकोसिस नीति की समीक्षा करते हुए संतुष्टि जाहिर की। पालनहार योजना के बारे में सामाजिक न्याय अधिकारिता विभाग के उप निदेशक मान्धाता सिंह ने बताया कि जिले में अब तक 18837 पालनहार स्वीकृत किए गए हैं जिनसे 30872 बच्चे लाभान्वित हो रहे हैं एवं मात्रा 6 आवेदन ही लंबित है। उद्योग विभाग के जीएम ने उद्योगों को प्रोत्साहन देने हेतु प्रदेश में लागू रिप्स योजना की जानकारी देते हुए बताया कि जिले में अब तक इस योजना अंतर्गत 85 प्रमाण पत्रा जारी कर दिए हैं। इसी प्रकार से विद्युत विभाग के अधीक्षण अभियंता के आर मीना ने मुख्यमंत्री किसान मित्रा ऊर्जा योजना की विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि 36500 कृषकों को जीरो रूपए के बिजली बिल जारी हुए हैं एवं इस योजना में जिले ने काफी प्रगति की है। मंडी सचिव मदन गुर्जर द्वारा राजस्थान कृषि प्रसंस्करण योजना की जानकारी देते हुए स्वीकृत आवेदनों के बारे में बताया एवं योजना के लाभ, अनुदान, पात्राता आदि की जानकारी दी। उच्च शिक्षा विभाग द्वारा कालीबाई भील मेधावी स्कूटी योजना एवं देवनारायण स्कूटी योजना की प्रगति से अवगत कराया गया। नगरीय विकास विभाग द्वारा इंदिरा रसोई योजना की प्रगति की जानकारी साझा की गई। बैठक में स्थानीय जनप्रतिनिधि व विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack