तिरंगे के अपमान के साथ ध्वज सहिंता कि उड़ाई धज्जियां।

हनुमानगढ़-विश्वास कुमार।
हनुमानगढ़ जक्शन के रेलवे स्टेशन परिसर मे केंद्र सरकार के आदेशों पर रेलवे प्रशासन द्वारा तिरँगा झंडा लगाया गया था। लेकिन पिछले कई दिनों से तिरँगा उसी के खम्बे मे अटका पड़ा है। लेकिन रेलवे अधिकारी इस और बिलकुल गंभीर नही लग रहे है।और जानकर इसे ध्वज के अपमान के साथ-साथ ध्वज सहिता का उलघन भी बता रहे है।
क्या बोले रेलवे स्टेशन अधीक्षक।
रेलवे स्टेशन अधीक्षक नागेन्द्र प्रताप सिंह का कहना है कि जिस कंपनी को ध्वज लगाने का ठेका दिया गया था उसकी तय सीमा समाप्त हो चुकी है। और अब रेलवे विभाग द्वारा ही इसको ठीक करवाना पड़ेगा व इसका भारी भरकम खर्चा भी है। इसको बार बार ठीक करवाने का प्रयास किया गया है।लेकिन ये ठीक नही हो पा रहा है।अब उचित संसाधन मंगवाकर इसको शीघ्र ठीक करवाकर नियमानुसार फहराया जायेगा।
आकर्षण का केंद्र बना गया था ध्वज।
बता दे कि जनवरी 2020 मे सौ फीट ऊंचे पोल पर स्थापित हुआ था विशाल तिरंगा शहर के लिए आकर्षण का केंद्र बन गया था और 30 गुणा 20 फीट आकार का ये ध्वज जालन्धर की एक कम्पनी से लगवाया गया था। लेकिन गत डेढ़ वर्ष मे 3 से 4  बार ध्वज मौसम कि मार झेल चुका है और तेज हवाओ व बारिश कि वजह से काफ़ी बार खंडित हो चुका है। जिसकी वजह से लगातार 1 माह भी तरीके से नही लहराया पाया है। अब देखना ये होगा कि ध्वज को सुसज्जित तरीके से व नियमानुसार कब तक फहराया जाता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack