अगर कांग्रेस ने हमारे पार्षदों को तोड़ा तो ईंट का जबाब पत्थर से देंगे-सतीश पूनिया।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
भाजपा प्रदेशाध्यक्ष डॉ.सतीश पूनिया  ने कहा कि ग्रेटर नगर निगम चुनाव में कांग्रेस ने भाजपा गुट में तोड़फोड़ की कोशिश की, तो हम ईंट का जवाब पत्थर से देंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस की नीयत खराब है। लेकिन फिर भी भाजपा के पास बहुमत से भी ज्यादा वोट आएंगे। ये मैं दावे के साथ कह सकता हूं। पत्रकारों ने डॉ. पूनिया से पूछा कि कांग्रेस नेता कह रहे हैं कि खुद चलकर भाजपा पार्षद उनसे पास आएंगे।उन्होंने कहा कि ऐसा चमत्कार तो आज तक उन्होंने किया नहीं कि लोग खुद चलकर उनके पास आएंगे। लेकिन ये संकेत कर रहा है कि कांग्रेस का अपना आधार खत्म हो गया, दुर्दशा हो गई, बिखराव हो गया। मुझे लगता है वो खुद अपना घर सम्भाल लें तो बेहतर है। डॉ. पूनिया ने कहां की ये कोई इशारा नहीं कर रहा है। पार्षद सभी सम्पर्क में हैं। लेकिन जो बिस्तर पर हैं। उनको भी अनुपस्थित मानेंगे तो यह आपके काउंट में आएगा। लेकिन हमारे यहां ऐसा नहीं है। कांग्रेस तोड़फोड़ की कोशिश करेगी, तो हम ईंट का जवाब पत्थर से देंगे और देख लेना कैसे देंगे। खाद्य आपूर्ति मंत्री प्रताप सिंह खाचरियावास और कांग्रेस  गुट के पार्षद राजेश गुर्जर और प्रदीप तिवाड़ी के उस दावे पर भाजपा अध्यक्ष डॉ. पूनिया ने पलटवार किया है। जिसमें उन्होंने जयपुर ग्रेटर नगर निगम चुनाव में भाजपा में भीतरघात और क्रॉस वोटिंग का खतरा बताते हुए कहा कि भाजपा के पार्षद हमारे सम्पर्क में हैं। खाचरियावास ने बाड़ेबंदी करवाने का कारण बताया कि जो भाजपा पार्षद हमारे पास आएंगे, उन्हें हम कहां रखेंगे। इसलिए हमने होटल बुक करवाया है, ताकि वे पार्षद हमारे पार्षदों संग रह सकें।खाचरियावास ने कहा है कि भाजपा के पार्षदों में नाराजगी का हमें फायदा मिल सकता है। हम नम्बर गेम में जरूर पीछे हैं, लेकिन जब गणित बदलती है तो बहुत तेजी से बदलती है। साल 2019 में भी इसी निगम में बड़ा उलटफेर हुआ था और  भाजपा देखती रह गई थी। पार्षद राजेश गुर्जर ने कहा कि ग्रेटर निगम में भाजपा मेयर अस्थाई रहा। कभी किसी को मेयर बनाया बनाया, निलंबित किया, दोबारा कार्यवाहक मेयर बनाया गया। भाजपा के खुद के पार्षद ही परेशान हो चुके हैं। उनकी काम करने की क्षमता से वो खुद परेशान हैं। भाजपा पार्षद कांग्रेस की सरकार से कड़ी से कड़ी जोड़ना चाह रहे हैं। ताकि उनके काम हों और वार्ड में वो दोबारा चुनाव जीत सकें। वो खुद हमारे सम्पर्क में जुड़े हुए हैं। हमारा बोर्ड बनाने के लिए वो खुद लालायित हैं। क्योंकि उनमें आंतरिक कलह ज्यादा है। पार्षद प्रदीप तिवाड़ी ने कहा कि- कांग्रेस आश्वस्त है। हम सारी पार्टियां एकजुट हैं। बीजेपी के सभी असंतुष्ट हमारे साथ हैं। वो हमारे बड़े नेताओं के भी सम्पर्क में हैं और हमारे साथी पार्षदों के भी सम्पर्क में हैं। हम सभी एक दूसरे के सम्पर्क में हैं। हम इस चुनाव को लेकर निश्चित हैं कि 100 फीसदी चुनाव जीतेंगे और हेमा सिंघानिया जयपुर ग्रेटर की मेयर बनेंगी। भाजपा के पार्षद चौमूं पैलेस और कांग्रेस पार्षद सांगानेर तहसील में मानसरोवर स्थित मैजेस्टी रिसॉर्ट में बाड़ेबंदी में हैं। जब साल 2019 में भी चुनाव के दौरान प्रशिक्षण शिविर के नाम पर बाड़ेबंदी की गई थी। तब  भाजपा के सभी पार्षद होटल में थे, लेकिन उसके बावजूद पार्षदों ने क्रॉस वोटिंग की थी। इस बार तो कई  भाजपा पार्षद गायब हैं। ग्रेटरनगर  निगम में जीत के लिए 74 वोटों की जरूरत है।  भाजपा के पास 93 बहुमत से 19 पार्षद ज्यादा हैं। कांग्रेस के पास खुदके 49 और 4 निर्दलीय सहित 53 पार्षद हैं। कांग्रेस को जीत के लिए 21 और पार्षदों की जरूरत है। लेकिन जिस तरह कांग्रेस ने भी बहुमत नहीं होने के बावजूद बाड़बेदी की है। इससे मंसूबे यही नजर आते हैं कि 21 और पार्षदों को भाजपा से तोड़ने की तैयारी कांग्रेस कर रही है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack