अब कोटा की अर्थव्यवस्था में आमूल-चूल परिवर्तन होगा-धारीवाल

कोटा-हंसपाल यादव।
राजस्थान औद्योगिक क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित कर इन्वेस्टर मीट में मिली सफलता से प्रदेश भर में 2 लाख से अधिक नौकरियां मिलेगी। कोटा में भी पेप्सी और अमोनिया जैसे प्लांट के साथ सोलर क्षेत्र के उधोग स्थापित होने जा रहे हैं। यह बात नगरीय विकास एवं स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने कोटा में द एसएसआई एसोसिएशन की ओर से झालावार रोड पर निजी होटल में आयोजित दीपावली मिलन समारोह के दौरान कही।
उन्होंने कोटा के बदले स्वरूप की चर्चा करते हुए कहा कि कोटा जल्दी पर्यटन नगरी भी बनने जा रहा हैं। कोचिंग इंडस्ट्री के साथ पर्यटन नगरी बनने के बाद कोटा की अर्थव्यवस्था में अमूल चूल परिवर्तन होगा। दीपावली मिलन समारोह के दौरान यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल का एसएसआई के पदाधिकारियों ने जोरदार स्वागत किया और कोटा में करवाए गए विकास कार्यों पर आभार व्यक्त किया । उन्होंने औद्योगिक क्षेत्र की कुछ समस्याओं को भी रखा गया जिस पर मंत्री शांति धारीवाल ने हर संभव मदद के लिए आश्वस्त किया। वही कोचिंग स्टूडेंट्स पर जीएसटी के मामले में यूडीएच मंत्री शांति धारीवाल ने एक बार फिर स्पष्ट किया कि जीएसटी की मीटिंग में वह कई बार कोचिंग स्टूडेंट्स पर लगाई गई जीएसटी को हटाने के लिए पुरजोर मांग कर चुके हैं। लेकिन केंद्र की सरकार इससे सहमत नहीं हैं।कार्यक्रम में कोटा के गोबरिया बावड़ी चोराहे और डकनिया स्टेशन के नाम मे बदलाव करने की मांग भी एसएसआई के पदाधिकारियों ने की। मंत्री शांति धारीवाल ने कोटा में चंबल रिवर फ्रंट सहित पर्यटन विकास के अन्य प्रोजेक्ट रिकॉर्ड टाइम में कंप्लीट होने की भी बात कही। वही कोटा में कोचिंग स्टूडेंट्स की संख्या में और बढ़ोतरी हो कोचिंग निर्देशकों की ओर से आए सुझावों पर उन्होंने सहमति दी।कार्यक्रम में विधायक कल्पना देवी, कांग्रेस नेता अमित धारीवाल जिला अध्यक्ष रविंद्र त्यागी उपमहापौर पवन मीणा एसएसआई के संरक्षक गोविंद राम मित्तल, कोटा व्यापार महासंघ के अध्यक्ष महासचिव सहित कोटा कोचिंग के निर्देशक एवं प्रबुद्ध जन मौजूद रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack