भरत पंवार ने राष्ट्रीय स्तरीय पैरा स्विमिंग में जीता गोल्ड मेडल।

पाली-मनोज शर्मा।
पैरा कमेटी ऑफ इंडिया की ओर से 11 से 13 नवंबर 2022 को 22 वी राष्ट्रीय स्तरीय पैरा स्विमिंग प्रतियोगिता का आयोजन असम के गुवाहाटी शहर में किया गया। जिसमें पाली के भरत पंवार पुत्र कालूराम पंवार (घांची) ने गोल्ड मेडल  जीतकर राजस्थान का नाम रोशन किया है। इस प्रतियोगिता में भरत पंवार 50 मीटर ब्रेस्टस्ट्रोक स्पर्धा में गोल्ड मेडल, 100 मीटर फ्रीस्टाइल में 5 वें स्थान पर तथा 
50 मीटर फ्रीस्टाइल में 8वें स्थान पर रहे हैं । गौरतलब है कि भरत पंवार ने हाल ही में 16 अक्टूबर 2022 को जोधपुर में 6 वीं राज्य स्तरीय पैरा स्विमिंग में 3 सिल्वर मेडल जीते थे ।
जीत का श्रेय कोच को और डिस्ट्रिक्ट क्लब पाली को।
भरत स्विमिंग की प्रैक्टिस के लिए शनिवार और रविवार को जोधपुर जाते थे। जहां पर एस. एन. मेडिकल कॉलेज मे उनके कोच शेरा राम  परिहार उनको स्विमिंग सिखाने में मदद करते थे । उसके अलावा भरत पंवार अपने इस जीत का श्रेय अपने घर परिवार वालों को तथा मोहनलाल सुखड़िया और डिस्ट्रिक्ट क्लब, पाली के सचिव राजेंद्र सुराणा तथा कन्हैयालाल पंवार को भी देना चाहते हैं। जिनकी वजह से वह डिस्ट्रिक्ट क्लब में एक महीने तक लगातार स्विमिंग की प्रेक्टिस कर सके । उसके अलावा विजयराज भाटी के फार्म हाउस पर भी उन्होंने स्विमिंग की प्रैक्टिस की थी।
 व्हीलचेयर क्रिकेट तथा पैरा एथलेटिक्स में भी जीते हैं कई मेडल।
स्विमिंग के अलावा भरत पंवार पैरा एथलेटिक्स गेम्स भी खेलते हैं। जयपुर में फरवरी 2022 राज्य स्तरीय पैरा गेम्स में डिस्कस थ्रो गेम्स में उन्होंने सिल्वर मेडल जीता था। उसके अलावा जैवलिन थ्रो गेम्स में ब्रांच मेडल भी जीता था और नेशनल पेरा गेम्स के लिए क्वालीफाई भी किया था । इसके अलावा पिछले पैरा एथलेटिक्स गेम्स मे भी डिस्कस थ्रो में सिल्वर मेडल  जीता था और पैरा पावर लिफ्टिंग में ब्रोंज मेडल जीता था । भरत व्हील चेयर क्रिकेट में भी राजस्थान टीम के ऑल राउंडर खिलाड़ी हैं। जिसमें उन्होंने कई राष्ट्रीय स्तरीय टूर्नामेंट खेले और बहुत सारे राष्ट्रीय स्तरीय टूर्नामेंट उन्होंने अपनी टीम के लिए जीते भी हैं। हाल ही में उन्होंने व्हील चेयर क्रिकेट के आईपीएल में भी राजस्थान टीम को जिताने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। अभी हाल ही में 28 से 30 अक्टूबर, 2022 को भरत पंवार का इंडिया-ए क्रिकेट टीम में भी चयन हुआ था।
डर को बनाया अपनी ताकत।
भरत पंवार बताते हैं कि उन्हें डूबने के सपने आते थे, इसीलिए उन्होंने स्विमिंग सीखने का निर्णय लिया और स्विमिंग सीखने के बाद, उन्होंने पैरा स्विमिंग में भाग लिया और मेडल जीते हैं। भरत पंवार बताते हैं कि, उनका सबसे बड़ा सपना है पैरा ओलंपिक में देश के लिए मेडल जीतना । भरत पंवार इस समय जोधपुर डिस्कॉम में कनिष्ठ लेखाकार के पद पर कार्यरत हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack