नन्दी गोशाला में छह लाख की लागत से बनाये गये शेड का उद्घाटन।

श्रीगंगानगर-राकेश मितवा।
श्रीगंगानगर के गांव पक्का सहारणा में श्री खाटूश्याम नन्दी गोशाला समिति द्वारा संचालित नन्दी गोशाला में सेठ जीएल बिहाणी सनातन धर्म शिक्षा ट्रस्ट द्वारा सेठ गिरधारीलाल बिहाणी व भामाशाह सेठ सुशील कुमार बिहाणी की पुण्य स्मृति को चिर स्थायी बनाये रखने के लिये लगभग छह लाख रुपये की लागत से शैड का निर्माण करवाया गया है। इस नवनिर्मित शैड का लोकार्पण ट्रस्ट के अध्यक्ष जयदीप बिहाणी व सेठ गिरधारीलाल बिहाणी के पड़पौत्र हिमांशु बिहाणी ने किया।इस अवसर पर गोशाला प्रांगण में आयोजित समारोह में जयदीप बिहाणी ने कहा कि पक्कासहारणा गांव बिहाणी शिक्षा ट्रस्ट के संस्थापक सेठ  गिरधारीलाल बिहाणी की जन्मस्थली है। इसलिये बिहाणी परिवार का इस गांव से आत्मीय लगाव है। सेठ गिरधारीलाल बिहाणी ने जीवनपर्यंत ईश्वर भक्ति करते हुए कर्म को प्रधानता दी जिसका परिणाम आज सेठ जीएल बिहाणी सध शिक्षा ट्रस्ट के विशाल वटवृक्ष के रूप में सभी के सामने है। 
भगवान श्रीकृष्ण के अनन्य भक्त और गोसेवक सेठ गिरधारीलाल बिहाणी ने तत्कालीन समय में गोवंश की सेवा के उद्देश्य से गोशालाएं बनवाई, गांव में ठाकुर जी का मंदिर और कुंए का निर्माण करवाया। भगवान श्रीकृष्ण ने स्वयं गीता में कहा है कि ‘धेनुनामस्मि कामधेनु’ अर्थात मैं गायों में कामधेनु हूं। हमारे पौराणिक ग्रंथों में गाय को देवी का दर्जा प्राप्त है और इसमें देवताओं का वास माना गया है।इसलिये गोसेवा ही ईश्वर की सच्ची सेवा है और मोक्ष प्राप्ति की राह है।  जयदीप बिहाणी ने कहा कि बिहाणी ट्रस्ट द्वारा गो सेवा का क्रम भविष्य में भी निर्बाध गति से जारी रहेगा। उन्होंने गोशाला के लिये प्रतिवर्ष 31 हजार रुपये का सहयोग देने की घोषणा की। नन्दी गोशाला समिति के पदाधिकारियों व गांव के गणमान्य नागरिकों ने जयदीप बिहाणी व  हिमांशु बिहाणी को स्मृति चिन्ह भेंट करते हुए कहा कि दानवीर सेठ गिरधारीलाल बिहाणी के सद्कर्मों का अनुसरण करते हुए गांव के समाजोपयागी कार्यों में बिहाणी शिक्षा ट्रस्ट ने सदैव सहयोग दिया है। समारोह में हनुमानगढ़ पंचायत समिति के प्रधान चौ. दयाराम जाखड़,  खाटूश्याम नन्दी गोशाला के अध्यक्ष  विजय सिंह जांगू, डायरेक्टर स. हरमंदिर सिंह बराड़, चौ. आदूराम सहारण,चौ. रामदत्त बिस्सू, चौ. मनफूल राम गोदारा, रामकुमार ढाका, पवन गोदारा, प्रिंसीपल मनोहरलाल,  जोतराम सहारण, स. बाबू सिंह बराड़, लक्ष्मीनारायण  हुसैन, स. गुरलाल सिंह, सत्यना इंद्रराज कड़वा सहित गांव के गणमान्य लोग उपस्थित रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack