पूनिया ने दिया गहलोत के आरोपों का जवाब, गद्दार कौन?कांग्रेस आलाकमान करे फैसला।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हाल ही सचिन पायलट को लेकर एक बड़ा बयान दिया और उन्हें गद्दार बताया। इस दौरान सीएम ने बीजेपी पर भी हमला बोला और बीजेपी पर राजस्थान में सरकार गिराने का आरोप लगाया। बीजेपी पर लगाए गए इन आरोपों को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया ने पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस में बीते 4 सालों से अंर्तकलह चल रही है। अब कांग्रेस की फिल्म का नाम 'गद्दार कौन' हो गया है। कांग्रेस आलाकमान तय करे कि गद्दार कौन है। पूनिया ने कहा कि यह पूरी तरह से सियासी आरोप है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत इस तरह के आरोप लगाने के आदी हैं। उन्होंने कहा कि गहलोत के बीजेपी पर लगाए आरोप सरासर गलत हैं और अपने पापों को ढंकने के लिए सीएम इस तरह की बयानबाजी कर रहे हैं। पूनिया ने कहा कि कांग्रेस में बीते 4 सालों से अंर्तकलह चल रही है। कांग्रेस इन सालों में यह स्थापित नहीं कर पाएगी कि उनकी पार्टी में गद्दार कौन है। ऐसे में आलाकमान को फैसला लेना चाहिए कि पार्टी में गद्दारी किसने की।वहीं सीएम की ओर से यह भी आरोप लगाए गए कि जब सरकार गिराने के प्रयास प्रदेश में किए गए, तो बीजेपी ने पैसे बांटे। इस पर पूनिया ने कहा कि इस तरह के आरोप लगाना कांग्रेस की आदत है। आरोप मैं भी लगा सकता हूं कि कुर्सी बचाने के लिए कांग्रेस ने क्या-क्या अनैतिक कार्य किए हैं। पूनिया ने कहा कि राजनीति में चलती-फिरती बातों को कोई तवज्जो नहीं देता। बीजेपी पर इस तरह के आरोप लगा सीएम ने कुतर्क का सहारा लिया है। पूनिया ने कहा कि हमारी सचिन पायलट से किसी तरह की कोई वार्ता नहीं हुई और ना ही इसकी कभी जरूरत पड़ी। उन्होंने कहा कि हमने कोई पीले चावल नहीं बाटे कि आप जाइए और सरकार गिराइए। इस पूरे मामले में बीजेपी को एक कारक बनाने की कोशिश की गई है जबकि कांग्रेस पार्टी में आपसी कलह चल रहा है। उन्होंने कहा कि अशोक गहलोत सिर्फ खुद को बचाने के लिए बीजेपी पर आरोप लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में 80 विधायकों ने इस्तीफा दे रखे हैं और विधानसभा स्पीकर ने सरकार को बचा रखा है। उन्होंने कहा कि यदि स्पीकर इस्तीफे स्वीकार कर लेते हैं, तो सरकार वैसे ही गिर जाएगी। लेकिन मौजूदा समय में कुर्सी की असुरक्षा अशोक गहलोत को सता रही है। जिसके कारण बीते 2-4 महीनों में गहलोत इस तरह के बयान दे रहे हैं। जबकि उनकी पार्टी अपने वजूद की सुरक्षा में लगी हुई है। सतीश पूनिया ने यहां तक कहा कि अब कांग्रेस की फिल्म का नाम हो गया है 'गद्दार कौन'।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack