स्व. राजीव गांधी का इक्कीसवीं सदी का आईटी का सपना राजस्थान में हो रहा है पूरा-सीएम गहलोत।

जोधपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि राज्य में पूर्व प्रधानमंत्री स्व. राजीव गांधी का इक्कीसवीं सदी का आईटी का सपना पूरा हो रहा है। उन्होंने कहा कि जयपुर के बाद जोधपुर डिजिफेस्ट में भी युवा उत्साह के साथ भाग ले रहे हैं और जॉब फेयर में उन्हें नौकरियां भी मिल रही हैं। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जोधपुर के राजकीय पॉलिटेक्नीक कॉलेज में आयोजित तीन दिवसीय डिजिफेस्ट के पहले दिन जॉब फेयर और स्टार्टअप एक्सपो के अवलोकन के बाद युवाओं को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रसन्नता का विषय है कि जॉब फेयर में करीब 270 कंपनियां आ चुकी हैं और 6 हजार से अधिक इंटरव्यू हो गए हैं। सैकड़ों लोगों का सलेक्शन भी हो चुका है। गहलोत ने कहा कि जयपुर के बाद जोधपुर डिजिफेस्ट में भी युवाओं ने भरपूर उत्साह दिखाया है। इनमें से कुछ नौजवानों को मुख्यमंत्री ने नियुक्ति पत्र भी सौंपे। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के दौर में ज्ञान ही शक्ति है। ज्ञान के मामले में हम दुनिया के विकसित देशों से पीछे नहीं। उन्होंने कहा कि तीन दिन तक चलने वाले जोधपुर डिजिफेस्ट के लिए बड़ी संख्या में लोगों ने ​रजिस्ट्रेशन करवाया है। इससे प्रदेश के नागरिकों को बहुत बड़ा अवसर मिलेगा। गहलोत ने कहा कि प्रसन्नता का विषय है कि जोधपुर में हम 600 करोड़ रुपए की लागत से फिनटेक यूनिवर्सिटी बना रहे हैं।फाइनेंशियल और टेक्नीकल जमाना इतना एडवांस हो गया है कि आज जो बच्चे आईटी का कोर्स करते हैं उनके पैकेज लाखों—करोड़ों में होते हैं। ऐसे में प्रदेश के नौजवानों को भी इन क्षेत्रों में अपनी प्रतिभा को तराशने और अवसर पाने का मौका मिलेगा। गहलोत ने कहा कि जोधपुर में डिजिफेस्ट जैसा बड़ा इवेंट हो रहा है। यहां 600 करोड़ रुपए की लागत से फिनटेक यूनिवर्सिटी खुल रही है।जयपुर और कोटा सहित अन्य जगहों पर आईटी सेंटर बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब वे दूसरी बार मुख्यमंत्री थे, तब उन्होंने हर विभाग का 3 प्रतिशत बजट​ सिर्फ आईटी के प्रमोशन के लिए रखा था। उसके बाद इस क्षेत्र में जो विकास हुआ है, वह सभी के सामने है। मुख्यमंत्री ने कहा कि ई—मित्र को 20 वर्ष पहले उनके कार्यकाल में शुरू किया गया था। आज 600 तरह की सेवाएं इन केन्द्रों पर मिल रही है। धीरे—धीरे पूरी गवर्नेन्स सूचना प्रौद्योगिकी पर आधारित हो रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार हर क्षेत्र में नौजवानों को आगे बढ़ा रही है। उन्होंने कहा कि इस बार सरकार ने किसानों के लिए अलग से बजट पेश किया था। अब अगला बजट युवाओं और छात्रों को समर्पित होगा। इसके लिए नौजवानों और पब्लिक से सुझाव मांगे गए हैं। गुरुवार शाम 6 बजे तक 20 हजार 480 लोगों ने सुझाव भेज दिए हैं। उन्होंने युवाओं का आव्हान किया कि वे राज्य सरकार के कामों में पूरी भागीदारी निभाएं। सूचना प्रौद्योगिकी एवं संचार विभाग के प्रमुख शासन सचिव अखिल अरोड़ा ने बताया कि जोधपुर डिजिफेस्ट 2022 में युवाओं की उत्साहजनक भागीदारी रही है। पहले दिन 9500 से अधिक लोगों ने इस भव्य आयोजन में भाग लिया है। 
जॉब फेयर में 800 से अधिक लोगों को मिले नियुक्ति पत्र।
इस अवसर पर लगाए गए जॉब फेयर में 270 से अधिक कंपनियों ने हजारों युवाओं के साक्षात्कार लिए। पहले दिन 3400 से अधिक युवाओं को रोजगार के अवसर मिले और 800 से अधिक युवाओं को कंपनियों ने नियुक्ति पत्र सौंपे। उच्चतम वार्षिक पैकेज 18 लाख रुपए रहा।
स्टार्टअप एक्सपो में ​20 से अधिक सत्रों का आयोजन।
इस अवसर पर आयोजित स्टार्टअप एक्सपो में युवाओं ने विभिन्न स्टार्अअप सत्रों में उत्साह के साथ भाग लिया। इन सत्रों को रूमा देवी, अध्यक्ष - ग्रामीण विकास एवं चेतना संस्थान, महावीर प्रताप शर्मा, अध्यक्ष, टाई इंडिया एंजल्स एंड रेन, नेहा नागर, कंटेंट क्रिएटर और इन्फ्लुएंसर, सलोनी गौर, कंटेंट क्रिएटर, हास्य अभिनेता और इन्फ्लुएंसर, शिवानी कपिला, यूट्यूबर, रूही यूट्यूबर और प्रतीक मुथा, कंटेट क्रिएटर सहित अनेक विशेषज्ञों ने संबोधित किया।
राजीव गांधी फिनटेक डिजिटल यूनिवर्सिटी का शिलान्यास 13 को।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत रविवार, 13 नवम्बर को जोधपुर में बनने जा रही राजीव गांधी फिनटेक डिजिटल यूनिवर्सिटी का शिलान्यास करेंगे। साथ ही वे जोधपुर और पाली के इन्क्यूबेशन सेंटर का लोकार्पण भी करेंगे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack