प्रार्थना सभा के दौरान धूप सेकते नजर आए गुरूजी।

चित्तौड़गढ़-गोपाल चतुर्वेदी। 
राज्य सरकार की ओर से लगातार सरकारी विद्यालयों में शिक्षा का स्तर सुधारने के लिए कई प्रयास किए गए हैं। जिसमें सभी विद्यालयों में खुद की बिल्डिंग और अध्यापकों की नियुक्तियां की गई है। लेकिन चित्तौड़गढ़ मुख्यालय पर संचालित हो रहे राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सेंथी के अधीन संचालित किये जा रहे प्राथमिक सरकारी विद्यालय और उच्च माध्यमिक विद्यालय सेथी के हाल  बेहाल दिखाई दे रहे हैं। जिसमें आज भी अध्यापकों ने प्रार्थना से बढ़कर सर्दी की धूप को महत्व दिया जा रहा है। वही सर्दी में भी बच्चों को कक्षा कक्ष में नहीं बिठाकर ठंडी हवाओं के बीच छाया में बिठाकर अध्यापन का कार्य किया जा रहा है। जानकारी में यह भी सामने आया है कि माध्यमिक विद्यालय सेंथी के अधीन संचालित हो रहे प्राथमिक विद्यालय में वर्तमान में 100 के आसपास बच्चे अध्ययनरत हैं। जिसमें कक्षा 1 से 5 तक के बच्चे शामिल है इन सब में सबसे बड़ी गौर करने वाली बात यह है कि इन 100 बच्चों का अध्ययन मात्र दो कक्षा कक्षों में किया जा रहा है। जिसमें तीन कक्षाओं का संचालन एक कक्षा कक्ष में और दो का एक कक्षा कक्ष में किया जा रहा है। जबकि विद्यालय में सभी कक्षाओं के लिए अलग-अलग कक्षा कक्षों का निर्माण सरकार द्वारा करवाया गया है। लेकिन अध्यापकों की कमी का हवाला देकर अलग-अलग कक्षाओं के बच्चों को आखिरकार किस तरह से शिक्षा दी जा रही है। यह तो विद्यालय प्रशासन ही जाने। जिस विद्यालय के अधीन यह विद्यालय संचालित किया जा रहा है वहां के अध्यापकों की कार्य के प्रति लापरवाही यहां दिखाई दे रही है कि बच्चों की प्रार्थना के समय सभी अध्यापक धूप का सेवन कर रहे थे। जबकि नियमानुसार प्रार्थना को भी एक अलग से कालांश के रूप में संचालित किया जाता है। लेकिन अध्यापकों की कार्य के प्रति बेरुखी आखिरकार कैसे बच्चों को अच्छे संस्कार दे पाएगी यह तो शिक्षा विभाग ही जाने। प्राथमिक विद्यालय की प्रभारी मंजुला आचार्य ने बताया कि इस विद्यालय में कक्षा 1 से 5 तक के कक्षाओं का संचालन किया जाता है जिसमें करीब 100  छात्र छात्राए अध्ययनरत है जिनके लिए कक्षा कक्ष बनाए गए हैं। लेकिन अध्यापकों की कमी के कारण तीन कक्षाओं का संचालन एक साथ और दो अलग कक्षा कक्ष में कक्षाएं संचालित की जाती है। उन्होंने बताया कि अध्यापकों की कमी का असर विद्यार्थियों पर नहीं हो इसके लिए बाहर मैदान में एक ही जगह पर आज कक्षाओं का संचालन किया जा रहा है। राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय सेंथि के कार्यवाहक प्रिंसिपल फजलुर रहमान ने बताया कि कक्षा कक्ष के बाहर कक्षाओं का संचालन करना और दो कक्षा कक्ष में पांच कक्षाओं का संचालन किए जाने की जानकारी उन्हें नहीं है और उसके बारे में अभी जानकारी प्राप्त करके उचित कार्रवाई करेंगे। अध्यापकों के प्रार्थना के समय उपस्थित नहीं रहने को गंभीर विषय बताते हुए उन्होंने कहा कि इस बारे में सभी को पाबंद किया जाएगा कि प्रार्थना के समय सभी अध्यापक प्रार्थना में उपस्थित रहे जिससे कि छात्र-छात्राओं को संबल मिले।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack