राहुल गांधी के साथ पूर्व आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन 10 किलोमीटर चले पैदल।

सवाई माधोपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
कन्याकुमारी से शुरू हुई कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा अभी राजस्थान में है। आज सुबह के सत्र में सवाई माधोपुर के भाडोती से पदयात्रा शुरू हुई। इस दौरान भारी संख्या में स्थानीय लोगों का हुजूम देखने को मिला।सुबह 11:00 बजे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए कांग्रेस सांसद एवं संचार प्रभारी जयराम रमेश ने बताया कि आज भारत जोड़ो यात्रा का 98वां दिन है। सुबह रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन क़रीब 10 किलोमीटर तक राहुल गांधी के साथ चले। दोनो के बीच देश की अर्थव्यवस्था एवं मौजूदा आर्थिक स्थिति को लेकर लंबी और गहरी बातचीत हुई थी। प्राइवेट इन्वेस्टमेंट कैसे बढ़ाया जाए, निर्यात कैसे बढ़ाया जाए, रुपए की गिरती कीमत तथा क्या वाकई भारत की आर्थिक स्थिति उतनी मज़बूत है जितना वित्त मंत्री संसद में दावा करती हैं, जैसे मुद्दों पर विशेष रूप से बात हुई। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि लोग आज महंगाई से त्रस्त हैं। राहुल की भारत जोड़ो यात्रा भी महंगाई के ख़िलाफ़ है। हमने लोगों को महंगाई से राहत देने के लिए कई योजनाएं शुरू की है। चिरंजीवी योजना के तहत लोगों को 10 लाख रुपए तक का हेल्थ इंश्योरेंस मिल रहा है। इसके अलावा हर तरह के ऑर्गन ट्रांसप्लांट भी फ्री हैं। पहले जब परिवार का कोई सदस्य बीमार पड़ जाता था तब लोगों को क़र्ज़ लेना पड़ता था, जमीनें बेचनी पड़ जाती थी, गहने गिरवी रखने पड़ते थे। लेकिन अब उन्हें चिंता करने की जरूरत नहीं पड़ती। इंदिरा रसोई योजना में राज्य सरकार 17 रुपए प्रति थाली अनुदान देती है। लोगों को 8 रुपए में भरपेट खाना मिलता है। मनरेगा की तर्ज़ पर इंदिरा गांधी रोजगार गारंटी योजना शुरू की गई है। उड़ान योजना के तहत महिलाओं को मुफ्त सेनेटरी नैपकिन दिया जा रहा है। राज्य में अंग्रेजी माध्यम के स्कूल खोले गए। पर्यटन को उद्योग का दर्जा दिया गया।एमएसएमई एक्ट लाकर लघु उद्योगों को कई तरह की छूट दी गई। मुख्यमंत्री अनुप्रति कोचिंग योजना के तहत विद्यार्थियों को प्रसिद्ध कोचिंग संस्थानों में निःशुल्क शिक्षा दी जा रही है। उन्हें रहने खाने के लिए अलग से 40 हजार रुपया हर साल दिया जा रहा है। किसानों के लिए चलाई जा रही योजनाओं की बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनका कर्ज़ा तो माफ हुआ ही है, इसके अलावा किसान मित्र ऊर्जा योजना के तहत करीब 8 लाख किसानों का बिजली बिल जीरो आया है। गहलोत ने कोरोना पीड़ित परिवारों को दिए गए पैकेज का भी ज़िक्र किया। उन्होंने बताया कि राज्य के 6 लाख अनाथ बच्चों को भी ढाई हजार रुपया प्रतिमाह दिया जा रहा है। 5 साल तक कॉन्ट्रैक्ट पर काम करने वाले कर्मचारियों को परमानेंट करने का प्रावधान भी किया गया है। इन योजनाओं का ज़िक्र करते हुए अशोक गहलोत ने दावा किया कि अगले साल होने वाले चुनाव में इन कामों के आधार पर ही कांग्रेस फिर से सत्ता में वापस आएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान का जो मॉडल तैयार किया गया है वैसा देश में कहीं नहीं है। राजस्थान में हमने 4 सालों में ऐसे काम किए हैं जो अब तक किसी राज्य में नहीं हुए। गुजरात मॉडल की बात होती है लेकिन यदि आप गुजरात जाएं तो आपको पता चलेगा कि वहां कोई मॉडल ही नहीं है, सिर्फ मोदी की मार्केटिंग है। पूर्वी राजस्थान नहर परियोजना पर बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इसे प्रधानमंत्री ने राष्ट्रीय परियोजना घोषित करने का वादा किया था, लेकिन वे अब मुकर रहे हैं। राजस्थान से केंद्र में मंत्री भी इसे लेकर सिर्फ़ बयान दे रहे हैं, कोई कदम नहीं उठा पा रहे हैं। लेकिन हम इस परियोजना को रुकने नहीं देंगे। थोड़ा वक्त लगेगा लेकिन इसे पूरा किया जाएगा। राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि जब से यात्रा राजस्थान में प्रवेश हुई है, सुबह 6:00 बजे से लेकर जब तक यात्रा समाप्त नहीं हो जाती, हजारों-हजार लोग राहुल गांधी के साथ चल रहे हैं। उन्हें सभी अपनी-अपनी समस्याएं  बता रहे हैं। लोग कह रहे हैं कि हमें दो करोड़ रोजगार देने के नाम पर ठगा गया। किसानों की आय दोगुनी करने के नाम पर ठगा गया। हमें लोकतंत्र को मज़बूत करने के नाम पर ठगा गया। हमने सोचा था कि प्रधानमंत्री काम की बात करेंगे लेकिन उन्होंने सिर्फ़ 8 सालों में मन की बात की है और लोकतंत्र को कमज़ोर किया है। डोटासरा ने आगे कहा कि जिस तरह स्वतंत्रता आंदोलन के समय महात्मा गांधी की यात्राओं को याद किया जाता है उसी तरह राहुल गांधी की यात्राओं को भी याद किया जाएगा। वह लोगों की समस्याओं को अपनी समस्या मानकर और उनकी आवाज बन कर निकले हैं। हम सभी उनके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं। प्रेस कॉन्फ्रेंस के अंत में जयराम रमेश ने कहा कि प्रधानमंत्री कहते हैं कि वे गैर भाजपा दलों के साथ भेदभाव नहीं करते। लेकिन पूर्वी राजस्थान कैनाल प्रोजेक्ट एक मिसाल है कि वह जो कहते हैं उसे नहीं करते। प्रधानमंत्री ने ख़ुद इसे दो बार राष्ट्रीय परियोजना घोषित करने का वादा किया था। राजस्थान से राज्यसभा सांसद नीरज डांगी ने इस मुद्दे को संसद में भी उठाया लेकिन प्रधानमंत्री अब अपने वादे से मुकर रहे हैं। दोपहर में राहुल गांधी ने श्रम एवं रोजगार के मुद्दों पर श्रमिकों और कई यूनियन के प्रतिनिधियों के साथ बातचीत की। इनमें राजस्थान असंगठित मजदूर यूनियन, अरावली निर्माण संघ,पत्थर घड़ाई मजदूर सुरक्षा संघ, उजाला महिला संगठन, आदिवासी अधिकार मंच, सूचना रोजगार अधिकार अभियान, नेशनल हॉकर्स फेडरेशन, मजदूर किसान शक्ति संगठन, इंडियन फेडरेशन फॉर एप बेस्ड ट्रांसपोर्ट वर्कर्स, अखिल राजस्थान महिला एवं बाल विकास संयुक्त कर्मचारी संघ, अखिल राजस्थान महिला एवं बाल विकास आंगनवाड़ी कर्मचारी संघ तथा कुछ अन्य श्रमिक भी शामिल थे।बातचीत के दौरान इन संगठनों ने राजस्थान सरकार की जनहित वाली नीतियों की सराहना करते हुए राहुल गांधी के समक्ष कुछ मांगें रखीं। राहुल ने उनकी बातें ध्यान से सुनी और साथ बैठे मुख्यमंत्री से उनकी समस्याओं का समाधान करने के लिए अनुरोध किया। मुख्यमंत्री ने सभी को विश्वास दिलाया कि जिन समस्याओं का तुरंत समाधान किया जा सकता है उन्हें तत्काल प्रभाव से किया जाएगा। बाकी के जो मुद्दे संज्ञान में आए हैं उन्हें 2 महीने बाद पेश होने वाले बजट में शामिल करने का प्रयास किया जाएगा।बातचीत के दौरान जब ओला, उबर, स्विगी जैसे ऐप के माध्यम से काम कर रहे श्रमिकों के सामाजिक और आर्थिक सुरक्षा का मुद्दा उठा तब मुख्यमंत्री ने बताया कि इनके लिए राजस्थान सरकार एक ऐप बना रही है। इसके माध्यम से उनके लिए तमाम तरह की सुविधाएं सुनिश्चित किए जाएंगी और कंपनियां इन पर अत्याचार न कर पाए इसका भी ख्याल रखा जाएगा।यात्रा के शाम के सत्र में यात्रियों के स्वागत के लिए बड़ी संख्या में आसपास के गांव के लोग खड़े थे। इस दौरान ज़बरदस्त भीड़ देखने को मिली। शाम में मुख्य रूप से चिटफंड विक्टिम्स का प्रतिनिधित्व करते हुए ऑल इन्वेस्टर्स सेफ्टी ऑर्गेनाइजेशन के प्रतिनिधि और राजस्थान के अल्पसंख्यकों का एक समूह राहुल गांधी के साथ चला।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack