गहलोत सरकार हुई सख्त, 108 आपातकालीन सेवाओं के साथ 104 जननी सेवा पर रेस्मा किया लागू।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
108 आपातकालीन सेवाओं के साथ-साथ 104 जननी एक्सप्रेस सेवा में काम करने वाले कर्मचारियों पर भी रेस्मा लागू हो गया है। राज्य सरकार ने एक अधिसूचना जारी कर प्रदेश में 108 आपातकालीन सेवाओं के साथ 104 जननी एक्सप्रेस सेवा, 104 चिकित्सा परामर्श सेवाओं को तत्काल प्रभाव से 13 दिसम्बर से अगले 6 माह तक अत्यावश्यक सेवा घोषित किया है। शासन उप सचिव गृह (ग्रुप-9) विभाग की ओर से जारी इस अधिसूचना के अनुसार राज्य सरकार की राय है कि 108 आपातकालीन सेवाओं के साथ-साथ 104 जननी एक्सप्रेस सेवा, 104 चिकित्सा परामर्श सेवाओं और कॉलसेन्टर में हड़ताल होने से सेवाओं पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा, जिसके चलते लोगों को भारी कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है। अधिसूचना के अनुसार जिन सेवाओं का संचालन जीवीके ईएमआरआई के माध्यम से इनिटग्रेटेड एम्बुलेंस प्रोजेक्ट के तहत किया जा रहा है, इनके समस्त कार्यालयों एवं कर्मचारियों और उसके कार्यकलापों से संबंधित समस्त सेवाओं को 13 दिसम्बर से अगले 6 माह तक अत्यावश्यक सेवा घोषित किया गया है। बता दें कि 108 आपातकालीन सेवाओं में भी रेस्मा लंबे समय से लागू है। हालांकि इसे हर 6 महीने में आगे बढ़ाया जाता है। 108 आपातकालीन सेवाओं के लिए पिछले महीने ही गृह विभाग ने प्रस्ताव जारी करते हुए अगले 6 महीने के लिए आवश्यक सेवा घोषित किया था।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack