मात्र 4 घंटे में किया झूठी वारदात का पुलिस ने पर्दाफाश।

हनुमानगढ़-विश्वास कुमार।
पीलीबंगा कस्बे के गोलूवाला मार्ग पर केशव कॉलेज के पास अज्ञात कार सवारों द्वारा पक्का भादवा के एक युवक से करीब एक लाख रूपये की राशि लूट की वारदात पुलिस की जांच में झूठी निकली।सूत्रों के अनुसार युवक की गाड़ी का किसी अन्य गाड़ी से साईड टकरा जाने पर विवाद हो गया था। जिसके बाद बात बढ़ते-बढ़ते हाथापाई पर आ गई। युवक ने बदला लेने की मंशा से झूठी कहानी रची और पुलिस प्रशासन को गुमराह करते हुए पुलिस थाना में एक लाख रूपये लूट हो जाने की झूठी शिकायत पेश की।जिस पर थाना अधिकारी विजय मीणा के निर्देश पर उपनिरीक्षक रजनदीप कौर के नेतृत्व में गठित टीम ने त्वरित कार्रवाई करते हुए मामले की हर एंगल से जांच की। युवक द्वारा बताए गए घटनास्थल का बारीकी से निरीक्षण किया। सीसीटीवी फुटेज और कॉल डिटेल की भी जांच पड़ताल की। युवक द्वारा बार-बार बदले जा रहे बयानों एवं मोबाइल फोन की रिकॉर्डिंग सुनने से पुलिस को पीड़ित युवक पर संदेह हुआ। संदेह होने पर पुलिस ने युवक से सख्ती से पूछताछ की तो सच उगल दिया।
यह था मामला।
पक्का भादवा निवासी दीपक द्वारा पुलिस को दी शिकायत के अनुसार अनुसार अज्ञात दो युवक डिजायर कार में सवार होकर आए थे। उन्होंने उसके साथ मारपीट की और कलेक्शन कर लिए गए करीब एक लाख रूपए की राशि लूट ली। सूचना के अनुसार लुटेरों ने कार सवार से मारपीट भी की और कुछ मोबाइल एसेसरी का सामान भी लूटकर फरार हो गए। पक्का भादवा निवासी युवक दीपक पुत्र बलराम भाट मोबाइल एसेसरीज का कार्य करता है।वह विगत दिवस रात्रि सूरतगढ़ साइड से मार्केटिंग करने के बाद घर लौट रहा था। युवक बुरी तरह घबरा गया उसने अभय कमांड सेंटर में फोन किया और उसके बाद घर लौट गया। पूरी तरह हताश और निराश युवक ने रात्रि को पीलीबंगा थाने में सूचना नहीं दी। गुरूवार सुबह उसने परिवाद दिया। पीलीबंगा पुलिस टीम ने मौके पर घटनास्थल का जायजा लिया और लूट की झूठी वारदात का पर्दाफाश किया।लूट के इस झूटी कहानी को त्वरित रूप से सुलझाने में हेड कांस्टेबल बलतेज सिंह एवं कांस्टेबल रमेश डेलू की विशेष भूमिका रही।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack