सम्मेद शिखर को पर्यटक स्थल घोषित करने के बाद केंद्र सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरा जैन समाज।



सवाई माधोपुर-हेमेंद्र शर्मा।
केंद्र सरकार एंव झारखंड सरकार द्वारा जैन समाज के तीर्थ स्थल सम्मेद शिखर को पर्यटक स्थल एंव अभ्यारण घोषित करने को लेकर पारित किए अध्यादेश के विरोध में जैन समाज का विरोध बढ़ता ही जा रहा है । इसी कड़ी में बुधवार को सवाई माधोपुर जिला मुख्यालय पर जैन समाज द्वारा रैली निकालकर कलेक्ट्रेट के समक्ष विरोध प्रदर्शन किया गया । जैन समाज के सैंकड़ो महिला पुरुष रेलवे स्टेशन स्थित सिटी मॉल पर एकत्रित हुए और नारेबाजी करते हुए रैली के रूप में कलेक्ट्रेट पहुँचे । जहाँ उन्होंने कलेक्ट्रेट के समक्ष जमकर प्रदर्शन किया और राष्ट्रपति एंव प्रधानमंत्री के नाम जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा । जैन समाज के लोगो का कहना है कि सम्मेद शिखर जैन समाज का सबसे बड़ा तीर्थ स्थल है । लेकिन केंद्र एंव झारखंड सरकार द्वारा जैन समाज के इस पवित्र स्थल को पर्यटक स्थल एंव अभ्यारण घोषित कर दिया गया। सम्मेद शिखर स्थल जैन समाज के 20 से अधिक कीर्तन करो कि निर्वाण स्थली है । जैन समाज इस स्थल को लेकर सरकार द्वारा किये गए निर्णय का पुरजोर विरोध करता है । जैन समाज के लोगो ने ज्ञापन के माध्यम से केंद्र एंव झारखंड सरकार द्वारा सम्मेद शिखर को पर्यटन स्थल एंव अभ्यारण घोषित करने के निर्णय को वापस लेने की मांग की है । उनका कहना है कि अगर सरकार द्वारा अपने निर्णय को नही बदला गया तो जैन समाज देश भर में आंदोलन करेगा। जिसकी जिम्मेदारी सरकार ही होगी।
देश भर में जैन समाज द्वारा विरोध करने पर आज झारखंडके सीएम ने सम्मेद शिखर की पहचान एक तीर्थ के रूप में ही रखने को घोषणा की। 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack