दंबगों ने गरीबों के आशियाने पर कब्जा करने का किया दुस्साहस, विधायक को देख भागे बदमाश।

चित्तौड़गढ़-गोपाल चतुर्वेदी।
चित्तौडग़ढ़ शहर के कोतवाली थाना इलाके में गंभीरी नदी पुलिया के पास की द्वारिकाधाम की जमीन को लेकर चल रहे विवाद में नया मोड़ आया है। रात के अंधेरे में मिट्टी खाली की जा रही थी, जिसका क्षेत्र के लोगों ने विरोध जताया। इतना ही नहीं चितौड़गढ़ विधायक चंद्रभान सिंह आक्या को भी इस मामले की जानकारी मिली तो वे भी रात को मौके पर पहुंचे और कच्ची बस्ती के लोगों को परेशान करने का आरोप लगाया है। कच्ची बस्ती के लोगों ने पुलिस थाने में कुछ रसूखात वाले लोगों पर उनके मकान हटा कर कब्जा करने का आरोप लगाया है।
इस संबंध में पुलिस ने पहले कच्ची बस्ती के लोगों की रिपोर्ट पर राज्यमंत्री सुरेंद्र सिंह जाड़ावत के पुत्र, पूर्व पालिकाध्यक्ष रमेश नाथ योगी सहित अन्य को नामजद करते हुए मामले में जांच शुरू का दी है। वही मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने भी विवादित जगह पर अस्थाई तौर पर जाब्ता तैनात किया है। दरअसल चित्तौड़गढ़ शहर में गंभीरी नदी से आगे द्वारिकाधाम की जमीन है। मुख्य सड़क और द्वारिका धाम की जमीन के बीच में लंबे समय से एक कच्ची बस्ती बसी हुई है। यहां से जबरदस्ती रास्ता निकालने का आरोप लगाते हुए बस्ती के लोग विरोध कर रहे थे। पहले भी लोग जिला प्रशासन से गुहार लगा चुके हैं कि उन्हें जबरन यहां से हटाया जा रहा है, जबकि वे 100 वर्षों से रह रहे हैं। इस कच्ची बस्ती के पास में ही रास्ता निकालने की मंशा से गुरुवार रात को डंपर से मिट्टी डाली जा रही थी। कच्ची बस्ती के यहां मिट्टी डालने की जानकारी मिली तो चित्तौड़गढ़ विधायक चंद्रभानसिंह आक्या मौके पर पहुंचे। उन्होंने कच्ची बस्ती में अवैध तरीके से मिट्टी डालने और गरीबों के मकान हटाने का आरोप लगाया। विधायक आक्या को देखते ही डंपर वाला मौके से भाग निकला। इस दौरान कोतवाली थाना पुलिस भी मौके पर मौजूद थी। बाद में बस्ती के लोग विधायक आक्या के साथ कोतवाली थाने पहुंचे। कोतवाली थाने में कच्ची बस्ती निवासी अजय पुत्र राकेश, नितिन पुत्र जितेंद्र, आकाश पुत्र गन्नू लाल, सुरेश पुत्र लखन, गोविंद पुत्र शेखर, दिलीप और साबिर बाबा मोहम्मद ने मिलकर गांधीनगर सेक्टर 5 निवासी जमील डॉन, पूर्व पालिका अध्यक्ष रमेश नाथ योगी, दर्जा प्राप्त राज्य मंत्री सुरेंद्र सिंह जाड़ावत के बेटे राजवीर सिंह जाड़ावत और प्रताप नगर निवासी मोंटी चड्ढा के खिलाफ मामला दर्ज करते हुए कहा कि यह लोग कई बार आए और दादागिरी के बल पर मकान खाली करवाना करवाने की कोशिश करते हैं। कच्ची बस्ती वालों ने आरोप लगाया है कि राजनीतिक रूप से प्रभावशाली होने के कारण हमें घर से बेघर करना चाहते हैं। गुरुवार रात को भी जमील डॉन और उनके साथ करीब 20 से 25 व्यक्ति हथियार से लैस होकर हमें डरा धमकाकर जेसीबी और डंपर लेकर आए थे और मकानों के बाहर मिट्टी डालना शुरू कर दिया। जिससे दरवाजे भी बंद होने लगे। आने जाने का रास्ता भी रुक गया। इतना ही नहीं पानी का कनेक्शन भी काट दिया और बिजली की व्यवस्थाओं को भी तोड़फोड़ कर भराव डालकर गलत तरीके से रोड बनाने लगे। पुलिस ने सभी के खिलाफ नामजद करते हुए मामले की जांच शुरू कर दी है। रात को हुए मामले के बाद कोतवाली थाना पुलिस का जाब्ता अभी भी वहां तैनात है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack