कोरोना के भयावह रूप को देखते हुए जन आक्रोश यात्रा पर जल्दी लेगें निर्णय-कटारिया

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. मनसुख मांडविया के कांग्रेस नेता राहुल गांधी और सीएम गहलोत को भारत जोड़ो यात्रा में कोरोना प्रोटोकॉल की पालना के पत्र के बाद राजस्थान में राजनीति गरमा गई है। कांग्रेस के आरोपों के बीच नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने माना कि कोरोना की ताजा जानकारी सामने आ रही है, वो और ज्यादा खतरनाक है। उन्होंने कहा कि जनता का बचाव सबसे पहली प्राथमिकता है। बीजेपी की जन आक्रोश यात्रा और जन सभाओं को लेकर पार्टी जल्द ही बैठकर कोई निर्णय लेगी। नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने कहा कि कोरोना चीन में विस्फोट के रूप में निकला है, सब चिंतित हैं। चार अन्य देशों में कोरोना ने विकराल रूप धारण कर लिया है। पिछली बार भी कोरोना आने के काफी देर बाद सोचते हुए कष्ट उठाना पड़ा। इन लोगों ने ही आलोचना की थी लॉकडाउन की, लेकिन वो नहीं करते तो 130 करोड़ की आबादी वाले देश में हाहाकार मचता, वो देखा नहीं जाता। राहुल गांधी केरल से चले होंगे तो उन्होंने भी नहीं सोचा होगा कि कोरोना विकराल रूप ले लेगा। इतनी भयानक बीमारी से समय रहते जनता को बचाना पहली प्राथमिकता है या फिर यात्रा तय करना। यदि फिर भी यात्रा जारी रखनी है तो कोरोना प्रोटोकॉल की पालना करके चलाएं, कौन रोकता है। कटारिया ने कहा कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का काम सवेरे उठकर केवल और केवल पीएम पर पत्थर फेंकना ही रह गया है। बीजेपी की यात्रा को लेकर भी उठे सवालों पर कटारिया ने कहा कि 200 विधानसभाओं में जन आक्रोश यात्रा चलना या बड़ी-बड़ी मीटिंग करने को लेकर हमको भी प्रोटोकॉल का पालन करना चाहिए। हमारी पार्टी बैठकर निर्णय लेगी कि भाजपा की यात्रा को स्थगित करना है या नहीं।
बीजेपी की जन आक्रोश यात्रा पर भी उठे सवाल।
केंद्रीय मंत्री मनसुख मांडविया ने चीन, अमेरिका सहित कई देशों में फैले कोरोना की स्थिति को देखते हुए कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा के दौरान कोविड प्रोटोकॉल की पालना करने और नहीं तो जनता के स्वास्थ्य को देखते हुए यात्रा को स्थगित करने की सलाह दी है। मनसुख मांडविया के लेटर बम के बाद सियासी बयान तेज हो गए हैं। कांग्रेस ने बीजेपी की जन आक्रोश यात्रा और जन सभाओं पर सवाल उठाया है। कांग्रेस का आरोप है कि भारत जोड़ो यात्रा में उमड़ी भारी भीड़ से भाजपा और मोदी सरकार इतनी घबरा गई है कि केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री कोविड प्रोटोकॉल की पालना करने हेतु पत्र लिख रहे हैं। दो दिन पहले प्रधानमंत्री ने त्रिपुरा में रैली की थी, जहां किसी भी कोविड प्रोटोकॉल की पालना नहीं हुई। इतना ही नहीं, कांग्रेस ने कहा कि बीजेपी को घर नहीं दिखा रहा। प्रदेश बीजेपी की ओर से जन आक्रोश यात्रा और जन सभाओं का आयोजन हो रहा है, क्या वहां पर कोविड का खतरा नहीं है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack