नाबालिग से दरिंदगी के आरोपी को कोर्ट ने सुनाई आजीवन कारावास की सजा।

करौली ब्यूरो रिपोर्ट।
करौली पोक्सो कोर्ट की विशिष्ठ न्यायाधीश अलका बंसल ने पोक्सो एक्ट के मामले में आरोपी अजीत सिंह योगी उर्फ लांगुरिया जोगी को दोषसिद्ध करार देते हुए आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। पोक्सो कोर्ट के विशिष्ठ लोक अभियोजक महेन्द्र कुमार मुद्गल ने बताया कि पीड़िता के पिता ने थाना नई मण्डी हिंडौन सिटी में  दिनांक 28 मई 2022 को रिपोर्ट दर्ज कराई थी की वह 27 मई 2022 को खाना खाकर अपने परिवार के साथ सो गया था। रात को करीब 1 बजे मेरा छोटा बच्चा रो पड़ा तब मेरी नीद खुली तो मेने देखा की मेरी बच्ची नही थी। मेने मेरी पत्नी को जगाया और हमने आस पास देखा लेकिन हमारी बच्ची नही मिली। सुबह 5 बजे कबाड़ा बीनने वाली महिला को पुल के नीचे मेरी बच्ची मिली। वह महिला बच्ची को हमारे डेरा पर लेकर आई। पीड़िता ने बताया कि मुलजिम अजीत उसे घर से उठा कर ले गया और उसके साथ गलत काम किया।अनुसंधान में आरोपी अजीत सिंह योगी उर्फ लांगुरिया जोगी पुत्र रत्तीराम योगी जाति जोगी निवासी बरेड़ी का पूरा क्यारदा खुर्द के खिलाफ धारा 363,366, 376AB भा द स व 5(M)/6 पोक्सो एक्ट पाया जाने पर आरोपी को 29 मई को गिरफ्तार किया गया। लोक अभियोजक ने बताया कि 29 जुलाई को कोर्ट में चालान पेश किया गया। इसमें 25 गबाह और 50 दस्तावेज पेश किए गए। आरोपी पर कुल 1 लाख 30 हजार रुपए जुर्माना लगाया गया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack