फर्जी पुलिसकर्मी बनकर लोगों को लूटने वाली ईरानी गैंग के दो बदमाश चढ़े पुलिस के हत्थे।

पाली-मनोज शर्मा।
फर्जी पुलिसकर्मी बनकर एक लाख रूपये की ठगी की वारदात करने वाली ईरानी गैंग का पुलिस ने पर्दाफाश कर दिया है। गैंग ने दो दर्जन से अधिक वारदात स्वीकार की है। पुलिस ने गैंग के दो शातिर बदमाशों को गिरफ्तार किया है। एसपी गगनदीप सिंगला ने बताया 21 दिसंबर को अनिल कुमार बिंदल अपने घर गांधी मूर्ति से मण्डिया रोड़ जा रहा था। तभी नाटी डेयरी के पास नवलखा रोड पाली पर दो बाइक सवार व्यक्ति फर्जी पुलिसकर्मी बनकर आये और बातो में उलझाकर उससे एक लाख रूपये लेकर फरार हो गये। इस तरह पाली शहर में दिनदहाड़े ठगी की वारदात के बाद ठगों की धरपकड़ हेतु बुगलाल मीणा अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के मार्गदर्शन में अनिल सारण पुलिस उपधीक्षक पाली शहर व थानाधिकारी रविन्द्र सिंह खींची नि.पु. पुलिस थाना कोतवाली के निर्देशन में विशेष टीम का गठन किया गया।गौरतलब है कि बुधवार शाम 4 बजे अनिल बिंदल निवासी गांधी मूर्ति के पास अपने घर से एक लाख रूपये लेकर मण्डिया रोड़ जा रहा था। तभी रास्ते में भाटी डेयरी नवलखा रोड़ के पास अपाचे बाइक पर सवार दो व्यक्तियों ने उसकी स्कूटी रूकवाकर फर्जी आईकार्ड दिखाकर पुलिसकर्मी बनकर एक व्यक्ति ने उसकी स्कूटी की डिग्गी चैक की व दूसरे व्यक्ति ने उसे बातो में उलझाकर कहा कि आजकल लूट की वारदात बहुत ज्यादा हो रही है। ऐसा कहकर उन्होंने उक्त एक लाख रुपए स्कूटी की डिग्गी में सुरक्षित रखने के बहाने से उससे लेकर डिग्गी बंद कर दी। कुछ समय बाद जब अनिल को  शक हुआ तो आगे जाकर जब उसने  डिग्गी चैक की तो एक लाख रूपये नही मिले। इस मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज होने पर पुलिस थाना कोतवाली की टीम द्वारा त्वरित कार्यवाही करते हुए घटना के एक घंटे के भीतर ही सदिग्धों के सीसीटीवी फुटेज जारी कर पूरे जिले में नाकाबंदी करवाई गयी। टीम के द्वारा घटना कारित करने के बाद दिन रात लगातार पीछा करते हुए मुलजिमानो को आबू रोड़ सिरोही से ईरानी गैंग के दो अभियुक्तों को दस्तयाब करने में सफलता प्राप्त की। आरोपियों ने पूछताछ के दौरान बताया कि महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश से मोटरसाईकल से रवाना होकर सभी राज्यो में वारदात करने के लिए निकलते है और अलग-अलग जगह जाकर बुर्जुग व्यक्ति व महिलाओं के साथ फर्जी पुलिसकर्मी बनकर फर्जी आईकार्ड दिखाकर लोगो को रुकवाकर बोलते है कि आजकल लूट की वारदाते बहुत ज्यादा हो रही है, आपके पास क्या सामान है आपको चैक करना है। फिर चोरी, लूट की घटनाओ का डर दिखाकर पैसो व आभूषणो को सुरक्षित रखने का झांसा देकर ठगी की वारदात को अजाम देते है। जो अपने पास स्पोर्टस बाईक रखते है जिससे घटना की वारदात करने के बाद अभियुक्त अपना हुलिया बदलकर जल्दी से फरार हो जाते है। दोनो अभियुक्तो के द्वारा पाली, ब्यावर, जयपुर, कोटा, सवाईमाधोपुर, दौसा, गुडगांव भिवानी, दिल्ली, उत्तरप्रदेश से दर्जनभर वारदात करना स्वीकार किया है। अभियुक्तो से गहनता से पूछताछ जारी है। और भी वारदाते खुलने की सम्भावना हैं। और घटना में कौन-कौन शामिल है उनके बारे में पूछताछ की जा रही है। पुलिस ने मीसम अली पुत्र नासीर अली और मोहम्मद फिरोज खान पुत्र फिरोज खान को गिरफ्तार किया है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack