मैडल जीतकर अपने गृह जिले पहुंचे, राहुल का हुआ जोरदार स्वागत।

हनुमानगढ़-विश्वास कुमार।
मैडल जीतकर पहुंचे हनुमानगढ़ खिलाडी का ढोल-नगाड़ों के साथ मिठाई खिलाकर,मालाएं पहनाकर और तिलक लगाकर जोरदार स्वागत किया और राहुल को स्वर्ण पदक जीतने पर उसको बधाई देने वालों का ताँता लग गया
राहुल को बिठाया पलक पांवड़ो पर।
दरअसल रांची में मे सम्पन्न हुए राष्ट्रीय जूडो टूर्नामेंट मे राहुल सेवटा ने स्वर्ण पदक जीत कर हनुमानगढ़ व राजस्थान का नाम रोशन किया है।राहुल के हनुमानगढ़ पहुंचने पर खेल प्रेमियों,जूड़ो खिलाड़ियों राहुल के परिजनों और दोस्तों ने हनुमानगढ़ जक्शन के रेल्वे स्टेशन पर पहुंचकर ढोल-नगाड़ों के साथ मालाएं पहनाकर,तिलक लगाकर और मिठाई खिलाकर हर्षोल्लास के साथ स्वागत किया तो वही राहुल की माता ने तिलक लगाकर बेटे को गले लगा लिया और माँ-बेटा भावुक हो गये।राहुल और राहुल के परिजनों व खेल प्रेमियों ने इस शानदार जीत और स्वर्ण पदक जीतने का श्रेय हनुमानगढ़ के जूड़ो कोच और राहुल के गुरु विनीत बिश्नोई को दिया। राहुल की माता यशवंती सेवटा और पिता सत्यनारायण सेवटा बेटे की इस जीत पर फूले नही समा रहे है। उनका कहना है की राहुल कुछ समय पहले तक चोट (Game Injury) से जूझ रहा था,लेकिन कोच बिश्नोई के प्रयासों व प्रेरणा से राहुल ने खेल मे वापिसी की और आज स्वर्ण पदक जीतकर लौटा है उम्मीद करते है की राहुल आने वाले समय मे देश का नाम रोशन करेगा।जीत पर राहुल कहते है की राष्ट्रीय प्रतियोगिता मे स्वर्ण पदक जीतने के बाद उसका लक्ष्य एशियाई गेम्स मे स्वर्ण पदक हांसिल करना है।विनीत कहते है की एक गुरु के लिए सबसे बड़ी ख़ुशी और सम्मान की बात होती तब होती है जब गुरु को अपने शिष्य का सम्मान करने का मौका मिले। इस मौक़े पर हनुमानगढ़ जक्शन रेल्वे स्टेशन अधीक्षक,नागेंद्र प्रताप सिंह,जी.एस राठौड़, इंद्रपुरा, परिजन रामसिंह सेवटा,राजेंद्र सेवटा,बनवारी सेवटा,महेंद्र सेवटा आदि शहर के गणमान्य नागरिक व जूड़ो खिलाडी और राहुल के दोस्त उपस्थित रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack