नेट थिएट पर शास्त्रीय कार्यक्रम राग प्रवाह, मखमली स्वरों से विजेंद्र ने किया रागेश्वरी का श्रृंगार।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
शास्त्रीय संगीत के युवा गायक डॉक्टर  विजेंद्र गौतम ने अपनी मखमली आवाज में जब रागेश्वरी के स्वर छेड़कर स्वरों के उतार-चढ़ाव से राग का श्रृंगार किया तो दर्शक मंत्रमुग्ध हो गए। उन्होंने एक ताल में द्रुत बंदिश राग संग रागिनी मिल मंगल गावे गाकर श्रोताओं को अभिभूत कर दिया। नेट थिएट पर डॉ विजेंद्र  ने अपनी प्रतिभा का परिचय देते हुए कार्यक्रम की शुरुआत राग पूरिया धनश्री से की । उन्होंने विलंबित खयाल" ऐरी मांई कोयलिया बोले बिरहा की तान" जो  की झुमरा ताल में निबद्ध थी, से की। इसके बाद मध्य लय  में उन्होंने तुम मोरी राखो लाज हरि गाया। नेट थिएट के राजेंद्र शर्मा राजू ने बताया कि विजेंद्र ने रागेश्वरी में प्रथम सुरसाधे और राग अभोगी मे एक बंदिश प्रस्तुत की। उन्होंने अपने कार्यक्रम का समापन राग किरवानी में प्रसिद्ध भजन हे गोविंद हे गोपाल गाकर किया।डॉ विजेंद्र के साथ तबले पर सधी हुई संगत जयपुर के सुप्रसिद्ध तबला वादक दशरथ कुमार ने की  तथा की बोर्ड पर अर्जुन सैनी ने शानदार संगत कर कार्यक्रम को परवान चढ़ाया।कार्यक्रम में प्रकाश मनोज स्वामी, कैमरा जितेंद्र शर्मा, मंच सज्जा अंकित शर्मा ममो नोनू, देवांग सोनी और जीवितेश की रही।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack