राहुल गांधी ने उनकी तुलना महात्मा गांधी से करने पर किया एतराज, आरएसएस पर बोला हमला।

दौसा ब्यूरो रिपोर्ट।
भारत जोड़ो यात्रा में कॉर्नर मीटिंग में राहुल गांधी ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा समेत सभी कांग्रेस नेताओं को नसीहत दी। सबसे पहले उन्होंने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा से कहा कि वह उनकी तुलना महात्मा गांधी से बिल्कुल न करें। इसके साथ ही राहुल गांधी ने सभी कांग्रेस के नेताओं को इंदिरा गांधी और राजीव गांधी की ओर से किए गए कार्यों को गिनाने के बजाए जनता से यह बताने के लिए कहा कि अब वह क्या कर रहे हैं और आगे जनता के लिए क्या करना चाहते हैं।राहुल गांधी ने कहा कि महात्मा गांधी से मेरी तुलना करना गलत है। सवाईमाधोपुर मे प्रेस वार्ता के दौरान गोविंद सिंह डोटासरा ने मेरी तुलना महात्मा गांधी से कर दी है जो कि नहीं करनी चाहिए। राहुल गांधी ने कहा कि महात्मा गांधी ने देश को आजादी दिलवाई। देश की आजादी के लिए वह जेल भी गए। ऐसे में महात्मा गांधी से मेरी तुलना कभी भी नहीं हो सकती है। इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस के अन्य नेताओं को भी नसीहत देते हुए कहा कि इंदिरा गांधी, राजीव गांधी ने बहुत काम किया लेकिन हर मीटिंग में एक ही बात को रिपीट करना ठीक नहीं है। राहुल ने कहा कि होना यह चाहिए कि हम यह बताएं कि हम जनता के लिए आगे क्या करना चाहते हैं। कांग्रेस पार्टी में चाहे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत हों या फिर कांग्रेस का अन्य कोई भी बड़ा नेता अक्सर मंच से राजीव गांधी और इंदिरा गांधी को लेकर बातें कहते नजर आते हैं। ऐसे में राहुल गांधी ने आज कांग्रेस के नेताओं को इंदिरा और राजीव गांधी के किए गए कामों से ऊपर उठकर देश की जनता के लिए वह क्या करना चाहते हैं इसकी बात करने के लिए कहा है। इसके साथ ही राहुल ने एक बार फिर आरएसएस पर जुबानी हमला किया। उन्होंने कहा कि आरएसएस और संघ में महिलाओं को कभी पूरा सम्मान नहीं मिलता है। एक बार फिर उन्होंने दोहराया कि वहां जय श्री राम कहा जाता है, वह कभी जय सियाराम की बात नहीं करते हैं। इसके साथ ही राहुल गांधी ने सभा की शुरुआत राजस्थानी अंदाज में राम राम सा कहते हुए की जिससे भीड़ ने उत्साहित होकर उनका स्वागत किया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack