ब्लड बैंक सेंटर्स पर क्यूँ नहीं लगाये ब्लड बैंक टेक्नोलॉजी डिप्लोमा धारक, कोर्ट ने मांगा जवाब।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
कोर्ट ने राजस्थान प्रदेश के ब्लड बैंक सेंटर्स पर नियुक्त नहीं किये जा रहे ब्लड बैंक टेक्नोलॉजी डिप्लोमा धारको को लेकर राज्य सरकार के प्रमुख सचिव चिकित्सा विभाग, निदेशक चिकित्सा विभाग इत्यादि को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है।याचिकाकर्ताओं की ओर से एडवोकेट तनवीर अहमद ने अदालत को बताया कि राजस्थान चिकित्सा अधीनस्थ सेवा नियम 1965 में तकनीशियन पद का प्रावधान किया गया है और इस पद की योग्यता, संबंधित ब्रांच में डिप्लोमा है। याचिकाकर्ता ब्लड बैंक टेक्नोलॉजी डिप्लोमा धारक हैं। उनका राजस्थान पैरा मेडिकल कौंसिल में रजिस्ट्रेशन भी है। अतः प्रदेश के सभी 62 ब्लड बैंक सेंटर्स पर विशिष्ट योग्यता धारक अभ्यर्थियों की नियुक्तियां की जानी चाहिए। पूर्व में जब तकनीक ज्यादा विकसित नही थी तब लैब टेक्निशन को ब्लड बैंक में लगा दिया जाता था क्योंकि यह स्पेशिलिटी कोर्स नही करवाया जाता था। लेकिन अब राजस्थान में ये कोर्स भी संचालित है और नियमों में  टेक्निशन (विशेष शाखा ) की नियुक्ति का प्रावधान भी है। चूंकि रक्त का आदान प्रदान transfusion इत्यादि अत्यंत संवेदनशील होता है। इसलिए DBBT विशिष्ट योग्यता धारकों की नियुक्ति का लाभ मरीजों को ही होगा जो राज्य हित मे भी है और जन हित में भी। राज्य के मरीजों को विशिष्ट योग्यता धारको की सेवाओं से महरूम नही किया जा सकता। आशाराम नागर और 25 अन्य की याचिका पर न्यायाधीश सुदेश बंसल द्वारा यह आदेश जारी किए गए है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack