नगर परिषद ने 30 लाख रूपये में कुत्तों की करवा दी नसबंदी, भष्ट्राचार के खिलाफ सड़क पर उतरे भाजपाई।

चित्तौड़गढ़-गोपाल चतुर्वेदी।
विगत 3 वर्षों से चित्तौड़गढ़ नगर परिषद में हो रहे भ्रष्टाचार और भेदभाव के विरोध में भारतीय जनता पार्टी की ओर से नगर परिषद के बाहर धरना दिया गया और जिला कलेक्टर को राज्यपाल के नाम भ्रष्टाचार की जांच कराने की मांग को लेकर एक ज्ञापन सौंपा गया। इसके बारे में जानकारी देते हुए नगर परिषद में नेता प्रतिपक्ष सुरेश झंवर ने बताया कि नगर परिषद में कांग्रेस के संदीप शर्मा सभापति बने हैं तब से लेकर आज तक भाजपा समर्थित वार्डों में विकास के काम बिल्कुल अवरुद्ध हो गए हैं। उन्होंने बताया कि पिछले वर्षों में नगर परिषद में भ्रष्टाचार का बोलबाला रहा है। जिसमें प्रमुख रुप से कुत्तों की नसबंदी का मामला सबसे बड़ा मामला है। जिसमें कुत्तों की नसबंदी के नाम पर 30 लाख से अधिक का भुगतान भाजपा ने रुकवाया है। इसके बारे में जानकारी देते हुए भाजपा पार्षद छोटू सिंह शेखावत ने सभापति संदीप शर्मा पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि जिस तरह से बोर्ड बैठक में भाजपा के पार्षदों को बोलने से रोका जा रहा है और भ्रष्टाचार के मुद्दे पर बात करने से रोका जाता है यह लोकतंत्र की परंपरा के खिलाफ है।उन्होंने बताया कि बरसाती नालों की सफाई के लिए 80 लाख से अधिक का टेंडर भ्रष्टाचार का सबसे बड़ा उदाहरण है। उन्होंने बताया कि पौधा रोपण, सड़कों के मरम्मत के साथ नालियों की मरम्मत में भी बड़े घोटाले जांच में सामने आएंगे। उन्होंने बताया कि नगर परिषद ने सूचना का अधिकार पर भी रोक लगा दी है जो कि तर्कसंगत नहीं है। इसी को लेकर नगर परिषद के बाहर भाजपा के पार्षदों और पदाधिकारियों ने धरना प्रदर्शन किया है राज्यपाल के नाम जिला कलेक्टर को भ्रष्टाचार की जांच करवाने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा गया है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack