मरुप्रदेश की मांग को लेकर महायात्रा का राजधानी की ओर कूच, 700 किलोमीटर की दूरी तय करके जयपुर पहुँचेगी यात्रा

श्रीगंगानगर-राकेश मितवा।
मरुप्रदेश की मांग को लेकर नई धान मंडी श्रीगंगानगर में मरुप्रदेश के समर्थकों ने जनसभा की और ऊँट, गाड़ियों,जीपों,तांगा गाड़ियों व टैम्पो के साथ रोड़ शो करते हुए जयपुर की ओर रवाना हुए। इस महायात्रा में सैकड़ो की संख्या में ऊंटगाड़ीयों में मरुप्रदेश के समर्थक 83 विधानसभाओं से आये। इस जनसभा की अध्यक्षता हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला, पंजाबी कलाकार सोनिया मान व मरुप्रदेश निर्माण के अध्यक्ष जयवीर गोदारा ने की। पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला ने कहा कि चौ.देवीलाल का जन्म इसी मरुप्रदेश के श्रीगंगानगर जिले में हुआ था। आज भी उनका जन्म जिस मकान में हुआ वो संरक्षित है। हमने मरुप्रदेश का अन्न खाया,अन्न खाकर हरियाणा की लड़ाई लड़ी व हरियाणा प्रदेश बनाया । आज जो हरियाणा में सुविधा है चाहे वो बुढापा पेंशन हो,चाहे किसान के खेत को पानी हो,बिजली हो और अन्य सुविधाएं हो। आज हरियाणा का देश मे नाम है वो इसलिए है कि वो छोटा प्रदेश है। आज मरुप्रदेश में सब होते हुए भी हरियाणा जैसी सुविधाओ से वंचित हो क्योंकि यहां के नेता आंदोलन करने में सक्षम नही है और ना ही कोई दूरदर्शिता है। आज मुझे इस बात की खुशी है कि चौ.देवीलाल के पदचिन्हों पर चलकर मरुप्रदेश बनाने के लिए जयवीर गोदारा और उसकी टीम लगी हुई है। मुझे सत प्रतिशत विश्वास है कि जयवीर गोदारा व उसकी टीम चौ.देवीलाल के पदचिन्हों पर चलकर ये छोटा प्रदेश बनाएंगे। जिस मरुप्रदेश का अन्न खाकर हमने हरियाणा के लिए संघर्ष किया उनको मैं ये कहने आया हूँ कि हमारी पूरी पार्टी,पूरा परिवार इस आंदोलन में अग्रणी पंक्ति में मिलेगा। हरियाणा की धरती में कोई भी मिनरल्स नही है लेकिन फिर भी तरक्की कर रहा है जबकि मरुप्रदेश तो खनिजों का अजायबघर है।  इनेलो परिवार मरुप्रदेश के संघर्ष में हर वक़्त तैयार है। छोटे राज्यों से देश का विकास होगा। सोनिया मान ने कहा कि देश की सरकार से लेकर राजस्थान की सरकार मरुप्रदेश के साथ भेदभव कर रही है। अडानी व अम्बानी तो पाकिस्थान में व्यापार करते है और मरुप्रदेश का बॉर्डर पाकिस्थान के साथ बंद कर रखा है। गुजरात का बॉर्डर पाकिस्थान के साथ व्यापार के लिए खोल रखा है जहां से प्रतिबंधित हीरोइन जैसे नशे की खेप मिल मिल रही है जबकि श्रीगंगानगर का बॉर्डर सील है। इस देश के लिए सबसे ज्यादा शहादतें व सैनिक मरुप्रदेश ने दिए है।यात्रा प्रमुख मनिन्दर मान ने कहा कि मरुप्रदेश निर्माण यात्रा श्रीगंगानगर से जयपुर तक हमारे शहीदों को समर्पित है। नेताजी सुभाषचन्द्र बॉस ने देश की आजादी के लिए लड़ाई लड़ी उनके जन्मदिवस से ये यात्रा किसान आंदोलन में शहीद हुए 700 से अधिक किसानों को व किसान शहीद नवदीप सिंह को समर्पित है। मरुप्रदेश खातिर कुर्बानी भी देनी पड़ी तो देंगे लेकिन ये लड़ाई जारी रखेंगे। नहरों को पूरा पानी दिलवाने से लेकर 33 सूत्रीयों मांग भी इस यात्रा में रखी गयी है। किसान शहीद नवदीप सिंह के दादाजी हरदीपसिंह डीबडीबा ने कहा कि मेरे परिवार मरुप्रदेश बनाने के लिए तैयार है,चाहे सड़कों से लेकर संसद तक लड़ना ही पड़े। यात्रा प्रमुख जयन्तमूण्ड ने बताया कि राजस्थान बहुत बड़ा प्रदेश है जिसके कारण समुचित विकास नही हो पा रहा।मरुप्रदेश को लेकर हमारा संगठन 13 वर्षों से संघर्ष कर रहा है। मरुप्रदेश निर्माण के लिए ऊँटों की महायात्रा के माध्यम से हम प्रदेश की सरकार को चेताना चाहते है कि हमारी जनता पानी के लिए,हकों के लिए,रोजगार व मूलभूत सुविधाओं के लिए परेशान है । मरुप्रदेश की मांग को श्रीगंगानगर से लेकर जयपुर तक जनता का समर्थन है। यह यात्रा 05 जिलों व 22 विधानसभाओं से होकर गुजरेगी। 23 जनवरी से राजस्थान विधानसभा का सत्र शुरु हो रहा है इसलिए ये यात्रा जयपुर जा रही है। इसमें हमने मरुप्रदेश की बड़ी समस्यायों को लेकर मुख्यमंत्री को ज्ञापन देंगे व जनजागरण का कार्यक्रम रहेगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack