पांचना बांध से पानी छोड़ने से पहले डी.सी एवं आईजी ने नहरों का किया निरीक्षण।

करौली ब्यूरो रिपोर्ट।
संभागीय आयुक्त सांवरमल वर्मा की अध्यक्षता मे सोमवार को पांचना बांध पर स्थित सिचांई विभाग के गेस्ट हाउस मे पांचना बांध से पानी छोडे जाने के संबंध मे बैठक आयेाजित की गई। बैठक मे गुडला, रोंडकलां एवं आस पास के गांवो के किसान व आमजन द्वारा पूर्व मे 13 गांवों मे बनाई गई नहरों का निरीक्षण करने की मांग की गई। इस पर संभागीय आयुक्त ने 28 जनवरी को सिचांई, पुलिस, प्रशासन एवं गुडला, रोंडकलां, जुंगीनपुरा सहित आस पास के गांवों के ग्रामीण आमजन एवं समिति के प्रतिनिधी संयुक्त निरीक्षण करेंगे कि कहॉं-कहॉ नहरें बनाई गई है एवं वर्तमान मे उनकी क्या स्थिति है इस संबंध मे अपनी रिपोर्ट भी प्रस्तुत करने के निर्देश दिये। बैठक मे संभागीय आयुक्त ने पांचना बांध से पानी छोडे जाने के संबंध मे उन्हे आ रही समस्याओं के बारे मे जानकारी लेते हुए चर्चा की एवं उन्होने पानी छोडे जाने के संबंध मे राजस्थान हाईकोर्ट के आदेश की पालना के बारे मे भी उपस्थित सरपंचों एवं ग्रामीणों से चर्चा की। बैठक मे आईजी गौरव श्रीवास्तव ने कहा कि किसी भी समस्या का समाधान बातचीत से ही निकाला जा सकता है। पांचना संघर्ष समिति के प्रतिनिधी एवं स्थानीय किसानों को प्रशासन के साथ पानी छोडे जाने से संबंधित बात कर हल निकाला जायेगा। बैठक मे जिला कलेक्टर अंकित कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक नारायण टोगस, अति. जिला कलेक्टर मुरलीधर प्रतिहार, अति. पुलिस अधीक्षक सुरेश जैफ, उपखंड अधिकारी दीपांशु सागवान, विकास अधिकारी अनीता मीना, जल संसाधन विभाग के अधिशाषी अभियंता सुशील गुप्ता, सूचना एवं जनसंपर्क अधिकारी धर्मेन्द्र मीना सहित ग्राम पंचायतों के सरपंच एवं ग्रामीण उपस्थित रहे।
संभागीय आयुक्त एवं आईजी ने नहरो का किया निरीक्षण।
संभागीय आयुक्त सांवरमल वर्मा एवं आईजी गौरव श्रीवास्तव ने ग्राम पंचायत गुडला एवं आस पास के गांवों मे सिचांई विभाग के द्वारा पूर्व मे बनाई गई नहरों एवं उनकी वर्तमान स्थिति के जानने के बारे मे सिचांई विभाग के अधिकारियों के साथ निरीक्षण भी किया। इस अवसर पर जिला कलेक्टर अंकित कुमार सिंह, पुलिस अधीक्षक नारायण टोगस, अति. जिला कलेक्टर मुरलीधर प्रतिहार सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack