नकली पुलिसवाला बनकर दे रहा था लूट को अंजाम, ग्रामीणों ने मिलकर जमकर की पिटाई कर सौंपा पुलिस को।

भरतपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
भरतपुर के कामां क्षेत्र में फर्जी पुलिसकर्मी बनकर लोगों से पैसे लेने का मामला सामाने आया है। यहां पर एक शख्स हरियाणा पुलिस का जवान बनकर लोगों को बंधक बनाकर फिरौती के नाम पर पैसे ऐंठने का काम करता था। हरियाणा बॉर्डर के जीराहेड़ा गांव के लोगों ने इस फर्जी पुलिसकर्मी को पकड़कर उसकी पिटाई कर दी। उसके बाद जुरहरा थाना पुलिस को सौंप दिया। ग्रामीणों ने आरोपी हरियाणा के बहिन निवासी सज्जा उर्फ सहाबुद्दीन के खिलाफ लिखित तहरीर दी। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हिम्मत सिंह ने बताया कि ग्रामीणों ने सूचना दी कि जुरहरा थाना क्षेत्र के जीराहेड़ा गांव में हरियाणा का फर्जी पुलिसकर्मी को ग्रामीणों ने पकड़ लिया है, जिसके बाद पुलिस ने आरोपी को शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार कर लिया है। रविवार को जुरहरा कस्बा निवासी इसराइल ने आरोपी के खिलाफ 19 जनवरी को अगवा कर 6 लाख रुपए की फिरौती मांगने के आरोप में केस दर्ज कराया। पुलिस मामला दर्ज कर पकड़े गए आरोपी से पूछताछ कर रही है। दरअसल मेवात क्षेत्र में फर्जी पुलिसकर्मियों का गैंग सक्रिय है जो आए दिन लोगों को डरा धमका कर अपहरण कर ले जाते हैं और मोटी रकम वसूल कर उन्हें छोड़ देते हैं। आरोपियों ने कामां क्षेत्र से करीब सैकड़ों लोगों को अपरहण कर ठगी का शिकार बनाया है। जिसमें कई लोगों ने जुरहरा थाने पर पहुंचकर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज करवाया। इस गैंग का शिकार नौगावां निवासी रामसिंह ने अपने खेत को बेचकर आरोपी फर्जी पुलिसकर्मी सज्जा को पैसे दिए थे। पीड़ित इसराइल ने बताया कि हरियाणा पुलिस के पुलिसकर्मी बनकर ये लोगों को उठाते हैं। अवैध हथियारों से लैस रहते हैं और बोलेरो गाड़ी में सवार होकर लोगों को अपना रुतबा दिखाते हैं। कामां क्षेत्र में फर्जी पुलिसकर्मी गैंग का पूरा खौफ है। हालांकि आरोपी सज्जा को पुलिस ने जब पकड़ा तो उसके पास से पुलिस को कोई हथियार और पुलिस की वर्दी समेत अन्य सामान नहीं मिला। एएसपी हिम्मत सिंह ने बताया कि मेवात क्षेत्र में हरियाणा की फर्जी पुलिस गैंग सक्रिय होने की सूचनाएं मिलती थी, लेकिन पुलिस के पहुंचने से पहले ही ये लोग फरार हो जाते थे। सूचना मिलते ही जुरहरा थानाधिकारी जयप्रकाश ने तुरंत प्रभाव से कार्रवाई की और आरोपी को पकड़ने में सफलता हासिल की। आरोपी से उसकी गैंग के बारे में पूछताछ की जाएगी किन-किन लोगों से मिलकर और किस तरीके से अपहरण और फिरौती जैसे संगीन मामले की घटनाओं को अंजाम देते थे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack