पेपर लीक प्रकरण बना गहलोत सरकार के गले की फांस, हजारों समर्थकों के साथ डॉ. किरोड़ी बैठे धरने पर।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
पेपर लीक प्रकरण गहलोत सरकार के लिए गले की फांस बन गया है। मंगलवार को पेपर लीक प्रकरण की जांच सीबीआई से कराने की मांग को लेकर शुरू हुआ राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा का धरना बुधवार को दूसरे दिन भी जारी है। मीणा अपने सैकड़ों बेरोजागर समर्थकों के साथ राजधानी जयपुर की सीमा पर कड़ाके की ठंड में डटे हुए हैं। इस दौरान गृह राज्य मंत्री राजेन्द्र यादव के साथ दूसरे दौर की वार्ता पूरी हो गई है। ये वार्ता सकारात्मक रही है। अब अगले दौर की वार्ता होगी। आगरा रोड़ स्थित पशु महाविद्यालय में हुई वार्ता के दौरान जयपुर पुलिस कमिश्रर आनन्द श्रीवास्तव, डीसीपी राजीव पचार, एडिशन एसपी अविनश शर्मा, बस्सी एसीपी मेघचन्द मीणा मौजूद रहे. वार्ता में पेपर लीक की CBI से जांच की मांग, बेरोजगारी सहित अन्य मुद्दों को लेकर चर्चा हुई। भाजपा की तरफ से राजेन्द्र राठौड़ भी वार्ता में मौजूद रहे।
सीबीआई की जांच की मांग।
किरोड़ी लाल मीणा ने कहा कि अगर सरकार ने पेपर लीक की CBI जांच की अनुशंसा नहीं की तो उनका धरना आगे भी जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश की गूंगी-बहरी सरकार को जगाने के लिए मंगलवार को सैकड़ों समर्थकों के साथ वे जयपुर विधानसभा का घेराव करने लिए आए थे, लेकिन बेरोजगारों के इस हुजूम से घबराई गहलोत सरकार ने पुलिस के बूते उन्हें यही रोक रखा है। हालांकि इससे कुछ आना-जाना नहीं है। मीणा ने आगे कहा कि एक के बाद एक 16 से ज्यादा भर्ती परीक्षा के पेपर लीक हो चुके हैं, जो प्रदेश के हजारों युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ है। ऐसे में इस मामले की जांच CBI से होनी चाहिए, क्योंकि नकल प्रकरण में मंत्री, विधायक, अधिकारी और कांग्रेस के पदाधिकारी भी शामिल हैं।
दूसरे दौर की वार्ता पर नजर।
बता दें, कि सांसद किरोड़ी लाल मीणा अपने सैकड़ों युवा बेरोजगार समर्थकों के साथ दौसा से जयपुर के लिए कूच किए थे, जिन्हे जयपुर की सीमा बस्सी के घाट की गुणी के पास ही रोक दिया गया था। इसके बाद मीणा नेशनल हाईवे 21 पर समर्थकों के साथ धरने पर बैठ गए। हालांकि बाद में जयपुर पुलिस कमिश्नर आनंद श्रीवास्तव से वार्ता के बाद हाईवे छोड़ते हुए पास ही में अपना धरना शुरू किया है। पुलिस कमिश्नर के साथ देर रात तक पहले दौर की वार्ता चली, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला। मीणा इस कड़ाके की ठंड में भी रात भर धरने पर बैठे रहे।
मीणा ने दिए थे पेपर लीक के सबूत।
पेपर लीक मामले में लगातार राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा मीडिया के जरिए कई बार पेपर लीक के सरगनाओं के नाम उजागर कर चुके हैं। इतना ही नहीं मीणा ने पेपर लीक की जांच कर रही एसओजी के अधिकारियों पर भी सवाल उठाए थे। सांसद मीणा ने सीबीआई जांच के साथ ही राजस्थान में सरकारी नौकरियों में राज्यों के युवाओं का कोटा तय करने की भी मांग की है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack