चेतक स्मारक भूमि को नीलाम करने के विरोध में आंदोलन की चेतावनी।

चित्तौड़गढ़-गोपाल चतुर्वेदी।
चित्तौड़गढ़ नगर परिषद की ओर से चेतक स्मारक के लिए आरक्षित भूमि को नीलाम करने के विरोध में मंगलवार को सर्व समाज लोगों ने एकजुट होकर सड़कों पर उतर कर एक विशाल वाहन रैली निकालकर जिला कलेक्टर चौराहे पर मानव श्रृंखला बनाकर नगर परिषद के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और नीलामी प्रक्रिया को रद्द करने की मांग को लेकर राज्यपाल और स्वायत्त शासन मंत्री के नाम अतिरिक्त जिला कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। इसके बारे में जानकारी देते हुए सर्व समाज के प्रतिनिधि तेजपाल सिंह ने बताया कि चित्तौड़गढ़ त्याग, बलिदान और जौहर की भूमि है यहां पर विभिन्न स्मारक बलिदान, शौर्य की नीव के प्रस्तर हैं, जो आने वाली पीढ़ी को प्रेरणा देते हैं। वही प्रातः स्मरणीय महाराणा प्रताप के स्वामी भक्त चेतक के स्मारक बनाने के लिए नगर परिषद चित्तौड़गढ़ की ओर से वर्ष 2009 में आयोजित साधारण सभा की बैठक में निंबाहेड़ा मार्ग स्थित ओछडी में प्रस्ताव संख्या 59 के अनुसार कोटा उदयपुर व निंबाहेड़ा राष्ट्रीय राजमार्ग के पास भूमि आरक्षित की हुई है। अब नगर परिषद इस भूमि को नीलाम करने जा रही है जिसमें से कुछ भूमि नीलाम भी की जा चुकी है। जिससे जननायक महाराणा प्रताप ही नहीं आमजन और सर्व समाज का अपमान हुआ है और आमजन की भावना भी आहत हुई। उन्होंने बताया कि इस प्रकार आरक्षित भूमि को नीलाम किया जाना विधि सम्मत नहीं है और नगर परिषद की इस तरह मेवाड़ की गौरवशाली परंपरा और इतिहास को विलुप्त करने की मानसिकता उजागर हो रही है। उन्होंने कहा कि अगर इस नीलामी प्रक्रिया को निरस्त नहीं किया जाएगा तो राजपूत समाज ही नहीं सर्व समाज चित्तौड़गढ़ ही नहीं पूरे मेवाड़ में एक बहुत बड़ा आंदोलन खड़ा करेगा। जिसकी समस्त जिम्मेदारी नगर परिषद और जिला प्रशासन की होगी। इसके  बारे में जानकारी देते हुए श्री राजपूत करणी सेना के जिला अध्यक्ष सत्यवीर सिंह भाटी ने बताया कि जिस तरह से नगर परिषद स्वामी भक्त चेतक के स्मारक के लिए आरक्षित की गई भूमि को नीलाम कर रही है यह कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और इसके लिए जिला प्रशासन और नगर परिषद को 7 दिन का समय दिया गया है कि वह इस नीलामी प्रक्रिया को निरस्त करें अन्यथा एक बड़ा उग्र आंदोलन पूरे मेवाड़ में एक साथ शुरू किया जाएगा जिसकी समस्त जिम्मेदारी प्रशासन की होगी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack