सीएम गहलोत ने देश की अर्थव्यवस्था में वैश्य समाज के योगदान को बताया महत्वपूर्ण।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि वैश्य समाज ने अपनी उद्यमशीलता से पूरे देश में अपनी अलग पहचान बनाई है। देश की अर्थव्यवस्था में वैश्य समाज का महत्वपूर्ण योगदान है। आजादी के आंदोलन में जमना लाल बजाज और जीडी बिरला जैसी अनेक विभूतियों ने महात्मा गांधी जी के साथ मिलकर कार्य किया। अकाल जैसी प्राकृतिक आपदाओं में वैश्य समाज ने सदैव आगे बढ़कर राहत कार्यों में सहयोग दिया है। मुख्यमंत्री जयपुर के बिड़ला ऑडिटोरियम में आयोजित अंतरराष्ट्रीय वैश्य महासम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। 
सीएम ने कहा कि आज वैश्य समाज के लोग भारत के हर कोने में फैले हुए हैं। राजस्थान से निकले औद्योगिक घरानों ने देश और दुनिया में अपनी अलग पहचान बनाई है। इन उद्योगपतियों ने अपने मूल क्षेत्रों से भी अपना जुडाव निरंतर बनाए रखा है और उनकी उन्नति के लिए कार्य किये हैं। गहलोत ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान राज्य में सर्वश्रेष्ठ कोरोना प्रबंधन हुआ। कोई भूखा ना सोए के संकल्प के साथ जरूरतमंदों के लिए भोजन सहित अन्य व्यवस्थाएं समाजसेवियों के सहयोग से उपलब्ध कराई गई। इसमें वैश्य समाज ने भी आगे बढ़कर उल्लेखनीय कार्य किया।
कानून बनाकर दिया जाए सामाजिक सुरक्षा का अधिकार।
मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में पूर्व में खाद्य, शिक्षा, सूचना और रोजगार के अधिकार आमजन को कानून बनाकर दिए गए हैं। इसी प्रकार देश में आमजन को सामाजिक सुरक्षा का अधिकार कानून बनाकर दिया जाना चाहिए। वर्तमान में राजस्थान में लगभग एक करोड़ वृद्धजनों, विधवाओं, निःशक्तजनों को सामाजिक सुरक्षा के अंतर्गत पेंशन दी जा रही है। इसी तरह केंद्र सरकार को भी एक समान सामाजिक सुरक्षा नीति बनाकर पूरे देश में लागू करनी चाहिए, ताकि जरूरतमंदों को समान रूप से सामाजिक एवं आर्थिक संबल मिल सके।
राजस्थान कर रहा प्रगति।
गहलोत ने कहा कि राजस्थान सभी क्षेत्रों में प्रगति कर रहा है। केंद्र सरकार के आंकड़ों के अनुसार 11.04 की विकास दर के साथ राज्य पूरे देश में दूसरे स्थान पर है। मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के माध्यम से आमजन को महंगे इलाज की चिंता से मुक्ति मिली है। इस योजना के तहत प्रदेशवासियों के लिए 10 लाख रुपये तक का इलाज निःशुल्क कर दिया गया है। लीवर, किडनी ट्रांसप्लांट एवं कोक्लियर इम्प्लांट सहित अन्य अंग प्रत्यारोपण वाले उपचारों में 10 लाख रुपये की सीमा समाप्त कर दी गई है एवं पूरा खर्चा राज्य सरकार वहन कर रही है। इस अवसर पर इंटरनेशनल वैश्य फैडरेशन के अंतर्राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक अग्रवाल ने अग्रसेन जयंती पर अवकाश घोषित करने के लिए मुख्यमंत्री का धन्यवाद ज्ञापित किया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack