पशुपालन मंत्री ने पशु कार्मिकों का समाप्त करवाया अनशन।

जयपुर ब्यूरो रिपोर्ट।
पशु चिकित्सक एसोसिएशन राजस्थान के तत्वाधान में पशुधन भवन परिसर में 11 सूत्रीय मांगों को लेकर पशु चिकिस्तकों द्वारा किया जा रहा अनशन समाप्त हो गया । कृषि एवं पशुपालन मंत्री लालचंद कटारिया अनशन स्थल पर पहुंचे और अनशनकारी पशु चिकिस्तकों से बातचीत कर अनशन तुड़वाया। इस मौके पर उन्होंने अनशनकारियों को जूस पिलाकर मिठाई खिलाई। कटारिया ने कहा की मुख्यमंत्री अशोक गहलोत राज्य के कर्मचारी एवं अधिकारीयों के हितों को लेकर बेहद संवेदनशील है। इसी दिशा में उन्होंने आश्वासन दिया की आगामी बजट में पशु चिकित्साकर्मियों की मांगों को शामिल करने का प्रयास किया।सरकार लोकतान्त्रिक व्यवस्था में पूर्णतया विश्वास करती है। इस मौके पर कटारिया ने कहा की कार्मिकों को अपनी मांगें रखने का अधिकार है। उन्होंने पशु चिकित्सकों से अपील करते हुए कहा की राज्य के लिए किसान एवं पशुपालक बेहद महत्वपूर्ण है। इसीलिए विभाग पशुपालकों के कल्याण के लिए समर्पित होकर कार्य करे। उन्होंने समझाइश करते हुए कहा कि मानव चिकित्सक मानवों के लिए ईश्वर का स्वरुप होते है वैसे ही पशु चिकित्सक पशुओं एवं पशुपालकों के लिए ईश्वर का स्वरुप होते है। इस मौके पर पशुपालन विभाग के निदेशक डॉ. भवानी सिंह राठौड़ पशुधन विकास बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एन. एम सिंह सहित बड़ी संख्या में विभागीय अधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

ARwebTrack